नीतीश की इस दोधारी तलवार से आ सकता है सियासी भूचाल!

नीतीश की इस दोधारी तलवार से आ सकता है सियासी भूचाल!

नीतीश कुमार एक खास रणनीति पर काम कर रहे हैं। अगर उस पर अमल हुआ, तो बिहार की राजनीति में 30 वर्षों बाद फिर एक बड़ा राजनीतिक भूचाल आना तय है।

हिलसा में आशीर्वाद पाते नीतीश कुमार

कुमार अनिल

इसमें कोई विवाद नहीं कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राजनीति के मंझे हुए खिलाड़ी है। उन्हें जब भी कोई बड़ा फैसला लेना होता है वे नालंदा चले जाते हैं। एक बार फिर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नालंदा में हैं। इस बार वे गांव-गांव घूम रहे हैं। पुराने सहयोगियों से मिल रहे हैं। उन्होंने कहा भी कि वे फीडबैक ले रहे हैं। पूरे नालंदा में यह सवाल तैर रहा है कि अभी कोई चुनाव भी नहीं है, फिर वे अपने गृह जिले में क्यों इतना समय दे रहे हैं। नालंदा में कई अटकलें लगाई जा रही हैं।

नालंदा में चर्चा है कि भाजपा का दबाव है कि नीतीश केंद्र की राजनीति में चले जाएं और बिहार की सत्ता भाजपा को सौंप दें। नालंदा के गांव-गांव में जाने और इस अटकल से नीतीश कुमार के पक्ष में एक सहानुभूति भी देखी जा रही है। लोग भाजपा के दबाव से नाराज हैं और वे चाहते हैं कि नीतीश मुख्यमंत्री बने रहें।

पटना में राजनीतिक विश्लेषक मान रहे हैं कि मुख्यमंत्री दिल्ली में कोई पद लेकर राजनीति से अलग हो जाएं, यह मुमकिन नहीं है। विश्लेषक मान रहे हैं कि नीतीश कुमार कोई ऐसा फैसला ले सकते हैं, जो बिहार की राजनीति में 1990 के मंडल कमीशन की सिफारिशों को लागू करने के बाद का सबसे बड़ा भूचाल साबित होगा। नीतीश का वह कदम बिहार की राजनीति में हमेशा के लिए दर्ज हो जाएगा और बिहार की राजनीति हमेशा के लिए बदल जाएगी।

नीतीश कुमार जातीय जनगणना कराने का एलान कर सकते हैं। जातीय जनगणना के खिलाफ है भाजपा। इससे संभव है जदयू और भाजपा की सरकार भी हिल जाए। फिर कोई नया समीकरण बन सकता है, लेकिन इतना तय है कि जिस तरह वीपी सिंह ने मंडल कमीशन की सिफारिशों को लागू करके देश की राजनीति को हमेशा के लिए बदल दिया, वैसे ही जातीय जनगणना की घोषणा से नीतीश कुमार बिहार की राजनीति में ऐसी लकीर खींच सकते हैं, जो हमेशा के लिए अमिट हो जाएगी। इतिहास में दर्ज हो जाएगी।

नीतीश कुमार का यह कदम दोधारी तलवार की तरह इसलिए है कि इससे तीसरे नंबर की पार्टी जदयू का कद अचानक ऊंचा हो जाएगा और मुख्यतः सवर्ण केंद्रित राजनीत करनेवाली भाजपा के लिए बुरे दिन आ सकते हैं। नीतीश के इस कदम से राजद भी प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकता।

SaatRang : गुस्सा, तनाव दूर करने के लिए बुद्ध के साथ करें प्रयोग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*