पत्रकार पर तिलमिलाए नीतीश, पर अखबारों में नहीं छपेगी खबर

पत्रकार पर तिलमिलाए नीतीश, पर अखबारों में नहीं छपेगी खबर

आज मुख्यमंत्री तिलमिला उठे, पर यह कल अखबारों में नहीं छपेगी। क्या पाजिटिव न्यूज के नाम पर सूचना से वंचित नहीं हो रहे पाठक?

कुमार अनिल

आज पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से एक पत्रकार ने राज्य में बढ़ते अपराध पर सवाल किया, तो मुख्यमंत्री सवाल का जवाब देने के बदले पत्रकार से ही पूछने लगे कि आप किसके समर्थक हैं? मुख्यमंत्री ने कहा-मैं आपसे डायरेक्ट सवाल कर रहा हूं, बताइए, आप किसके समर्थक हैं? सवाल का जवाब देने के बदले मुख्यमंत्री ने पत्रकार पर निजी सवाल किए और लगातार बोलते रहे। जनहित के सवाल पर मुख्यमंत्री का तिलमिलाना बड़ी खबर है, पर यह कल के अखबारों में नहीं छपेगी। अखबार का काम खबर देना है, पर वे कल यह खबर नहीं देंगे।

मुख्यमंत्री से एक कार्यक्रम के दौरान पूछा गया कि आप अपराध रोकने के लिए लगातार बैठकें कर रहे हैं, पर अपराध रुक नहीं रहा। आपका इकबाल खत्म हो गया लगता है। इतना सुनते ही मुख्यमंत्री बिगड़ गए और पत्रकार पर निजी सवाल करने के साथ ही कहा कि 15 साल पहले उनके राज का क्या हाल था। उन्होंने यह भी जोर देकर कहा कि पता करिए कौन अपराध कर रहा है। पत्रकार सवाल करते रहे और मुख्यमंत्री अपने ढंग से बोलते रहे।

भाजपा की चुप्पी भी कुछ बोल रही है

जब यह वाकया हुआ उस समय मुख्यमंत्री के बगल में भाजपा नेता और मंत्री मंगल पांडेय भी खड़े थे। घटना के बाद इसका वीडियो वायरल हो गया। विपक्ष और खासकर राजद ने इस घटना पर मुख्यमंत्री को घेरा, पर मुख्यमंत्री के सहयोगी भाजपा का कोई नेता बचाव में सामने नहीं आया। भजपा के सभी बड़े नेता चुप हैं। सवाल यह भी है कि दो महीना पहले एनडीए की जीत पर पटना से दिल्ली तक जश्न मनाने वाली भाजपा अपनी ही सरकार के बचाव में क्यों सामने नहीं आ रही है? वह सरकार में बड़ी पार्टी है, लेकिन फिर भी चुप है। क्या यह चुप्पी किसी रणनीति का हिस्सा है?

रूपेश हत्याकांड बना बड़ा मुद्दा, तेजस्वी ने फिर नीतीश को घेरा

एक खबर की दृष्टि से यह बड़ी खबर है, पर इसे अखबारों में जगह नहीं मिलेगी। अखबार का काम है पाठकों तक खबर पहुंचाना, लेकिन इस खबर से अखबार के लाखों पाठक वंचित रह जाएंगे। यह पाठकों का अधिकार तो है ही, साथ ही उन्हें यह भी समझना होगा कि तथाकथित पाजिटिव खबरों के नाम पर उन्हें जो पढ़ने के लिए खबर दी जाती है, उसका उद्देश्य क्या है? इस दौर में खबरों की बाढ़ है, पाठक सजग न होगा, तो उसके दिमाग में इतिहास डालकर वर्तमान पर पर्दा डाल दिया जाएगा।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*