एम्स-दीघा एलिवेटेड रोड की लम्बाई पर किया गया दावा संदेह के घेरे में

एम्स-दीघा एलिवेटेड रोड की लम्बाई पर किया गया दावा संदेह के घेरे में

एम्स-दीघा एलिवेटेड रोड का उद्घानट मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कर तो दिया लेकिन इसे देश का सबसे लम्बा एलिवेटेड रोड होने का दावा विवादों में आ गया है.

पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय ने इसे देश का सबसे लम्बा एलिवेटेड रोड करार दिया है. 12.27 किलोमीटर कुल लम्बाई के इस रोड पर एलिवेटेड रोड की लम्बाई 8.45 किलो मीटर है.

ऐसे में इसे देश का सबसे लेम्बा एलिवेटेड रोड होने का दावा संदेह के घेरे में है क्योंकि कुछ वर्ष पूर्व दिल्ली से उत्तर प्रदेश के बीच राजनगर एक्सटेंशन से यूपी गेट पर बने एलिवेटेड रोड की लम्बाई 10.3 किलो मीटर है.

ऐसे में एम्स-दीघा एलिवेटेड रोड में पहुंचपथ को छोड़ कर एलिवेटेड रोड की लम्बाई 8.45 किलो मीटर है तो फिर इसे देश का सबसे लम्बा एलिवटेड रोड होने के दावे पर सवालिया निशान खड़ा हो गया है.

दूसरी तरफ अगर हैदराबाद में 2009 में बने एशिया के सबसे लम्बे फ्लाई अवर की बात की जाये तो यह भी एलिवेटेड रोड ही है औऱ इसकी लम्बाई 11.66 किलोमीटर है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दीघा एम्स एलिवेटेड पुल का आज उद्घाटन किया. उत्तर से दक्षिण आने जाने वालों और राजधानी को जाम से निजात दिलाने में यह सड़क वारदान साबित होगा. इस मौके पर डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय, सांसद रामकृपाल यादव, विधायक रीतलाल यादव मौजूद रहे.

समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा की एम्स – दीघा एलिवेटेड कॉरिडोर निर्माण का उदेश्य पटना स्थित एम्स हॉस्पिटल को बिहार राज्य के सुदूर क्षेत्रों एवं उत्तर बिहार को दक्षिण बिहार से द्रुत गति सम्पर्कता प्रदान करने हेतु किया गया है. इसके निर्माण के लिए उन्होंने सात वर्ष पहले जो सपना देखा था आज उसे पूरा कर एम्स पटना आने वाले मरीजों के लिए वरदान का रूप दिया है.


सीएम ने कहा कि हमारा सपना था कि बड़े शहरों की तरह पटना में भी पूल के ऊपर पुल का रोमांचक सफर हो जिसे आज पूरा कर जनता को समर्पित किया गया. यह परियोजना बिहार में इस प्रकार की पहली एलिवेटेड परियोजना है. इस परियोजना में सोन नहर (खगौल-दीघा नहर) के ऊपर 8.45 कि०मी० की 4 – लेन एलिवेटेड रोड एवं इसके पहुंच पथ में 2 – लेन एवं 4 – लेन पहुँच पर्थ का निर्माण किया गया है.


इस परियोजना का निर्माण बिहार सरकार के उपक्रम बिहार राज्य पथ विकास निगम लि . द्वारा कराया गया है. परियोजना में पटना-मुगलसराय रेलखंड (दानापुर रेलवे स्टेशन के निकट ) के ऊपर एक आरओबी का निर्माण किया गया है जिसकी लम्बाई 106 मी० है, और यह आईओबी हिन्दुस्तान का सबसे लम्बा सिंगल स्पैन ओपन वेब स्टील ग्रीडर आरओबी है.


पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि 1289.25 करोड़ की लागत से निर्मित यह पथ राष्ट्र का सबसे लंबा 12.27 किलोमीटर का ऐलिवेटेड पथ है. पटना-दिल्ली रेल लाईन के ऊपर 106 मीटर लंबा रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी) इंजीनियरिंग का अनूठा नमूना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*