नीतीश ने कहा- एनडीए में दरार नहीं

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र और राज्य में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद जनता दल यूनाइटेड (जदयू) और भारतीय जनता पार्टी के रिश्तों में खटास की लगाई जा रही अटकलों पर विराम लगाते हुए आज कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में कहीं कोई दरार नहीं है। 

श्री कुमार ने मंत्रिमंडल विस्तार के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि उनकी ओर से भाजपा कोटे के मंत्रिमंडल के खाली पदों को भरने की भी पेशकश की गई थी, लेकिन भाजपा ने तय किया है कि उनके कोटे का मंत्रिमंडल विस्तार आगे किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राजग पूरी तरह से एकजुट है और उसके रिश्तों में कहीं कोई दरार नहीं है।

श्री कुमार ने कहा कि विधानमंडल का सत्र आने वाला है और ऐसे में कम मंत्रियों के होने से मुश्किल होती इसलिए मंत्रिमंडल विस्तार करने का निर्णय लिया गया। उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी कहा कि मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर राजग में कोई विवाद नहीं है। मुख्यमंत्री ने भाजपा कोटे के मंत्रिमंडल के खाली पदों को भरने की पेशकश की थी लेकिन पार्टी नेतृत्व ने फिलहाल इसे टाल दिया है।

इससे पहले नीतीश मंत्रिमंडल के पहले विस्तार में जगह पाने वाले आठ नए मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा कर दिया गया है और साथ ही कुछ पुराने मंत्रियों के विभाग में भी फेरबदल किए गए हैं।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सलाह पर राज्यपाल लालजी टंडन ने मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा कर दिया है और कुछ मंत्रियों के विभागों में फेरबदल किये हैं। नए मंत्री श्याम रजक को उद्योग विभाग और नरेंद्र नारायण यादव को लघु जल संसाधान तथा विधि विभाग की जिम्मेवारी सौंपी गई है।

इसी तरह डॉ. अशोक चौधरी को भवन निर्माण विभाग, बीमा भारती को गन्ना उद्योग विभाग, संजय कुमार झा को जल संसाधन विभाग, रामसेवक सिंह को समाज कल्याण विभाग, नीरज कुमार को सूचना एवं जन संपर्क विभाग और लक्ष्मेश्वर राय को आपदा प्रबंधन विभाग आवंटित किया गया है।

वहीं, पुराने मंत्रियों में जय कुमार सिंह को विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग, महेश्वर हजारी को योजना एवं विकास विभाग, प्रमोद कुमार को कला, संस्कृति एवं युवा विभाग, बिनोद कुमार सिंह को पिछड़ा वर्ग एवं अतिपिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग, कृष्ण कुमार ऋषि को पर्यटन विभाग एवं ब्रजकिशोर बिंद को खान एवं भूतत्व विभाग आवंटित किया गया है। इनके अलावा कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार को पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग का अतिरिक्त प्रभार भी सौंपा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*