किसान आंदोलन कमजोर करने के लिए केंद्र ने मरवाया छापा:PFI

किसान आंदोलन कमजोर करने के लिए केंद्र ने मरवाया छापा:PFI

PFI( Popular Front of India) ने केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि किसान आंदोलन से दबाव में आ चुकी सरका देश का ध्यान भटकाने के लिए उसके नेताओं के घरों पर ईडी की छापेमारी करवाई गयी.

दरभंगा में आज प्रेस कांफ्रेंस करके PFI के राज्य सचिव मोहम्मद सनाउल्लाह ने कहा कि पिछले दिनों संगठने के नेताओं के 30 आवासीय परिसरों पर ईडी ने छापेमारी की थी.इन बिहार में पूर्णिया कार्यालय और दरभंगा में भी छापेमारी की गयी. इस छापेमारी में ईडी को कुछ भी नहीं मिला.

PFI के ठिकानों पर छापे, खाली लौटे ED कर्मियों से कहा सीजर लिस्ट देते जाओ

क्षेत्र के सचिव मो० तौकिर ने इस अवसर पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित किया। मुहम्मद सनाउल्लाह ने कहा कि हमारा मानना ​​है कि यह एक राजनीतिक छापा है. क्योंकि यह विशेष रूप से 2014 के बाद से देखा गया है जब सरकार जनता के विरोध का सामना कर रही है। जब भी किसी जन आंदोलन से सरकार पर दबाव पड़ता है वह छापा मार कर जनता का ध्यान भटकाना चाहती है.

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा ध्यान हटाने के लिए ED NIA जैसी एजेंसियों का इस्तेमाल करके सरकार ने इस तरह के छापे मारे हैं और सरकार ने एजेंसियों का इस हद तक इस्तेमाल किया है कि इन एजेंसियों पर जनता का भरोसा पूरी तरह से खत्म हो गया है।

आज जब पूरे देश में किसान आंदोलन फैल गया है, किसानों की नाराजगी सरकार के गले की हड्डी बन गई है, इसलिए इससे दिमाग हटाने के लिए, पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया को बहस का हिस्सा बनाने की कोशिश की जा रही है।

राज्य सचिव महबूब रहमानी ने कहा कि यह सीएए विरोधी आंदोलन मे शामिल कार्यकर्ताओं संगठनों को निशाना बनाने के सिलसिले का हिस्सा भी है ऐसा इसलिए है क्योंकि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पहले ही दिन से इस काले कानून के खिलाफ बोल रहा है और इसके खिलाफ लोगों के आंदोलन में सबसे आगे खड़ा है।

महबूब रहमानी ने इसे उत्पीड़ित वर्गों, विशेषकर मुसलमानों के संघर्ष को दबाने का प्रयास बताया। उन्होंने यह भी कहा कि दलित और वाम संगठनों की मानहानि का एक हिस्सा चलाया गया था जिसके तहत जमात-ए-इस्लामी, तब्लीगी जमात, भीम आर्मी को पहले निशाना बनाया गया था और शहरी नक्सल का खेल खेला गया था।

क्षेत्र के सचिव मो० तौकिर ने कहा कि महासचिव के घर पर छापेमारी में, ईडी टीम पूरी तरह से खाली हाथ थी लेकिन उनका इरादा सही नहीं था। जिसके बाद उन्होंने सीजर सूची दी।

मो०तौकिर ने कहा कि ईडी महासचिव सनाउल्लाह की परीक्षाओं, और एसडीपीआई पार्टी की जाले विधानसभा की पंचायत समितियों की सूची के साथ कुछ दस्तावेज थे। उन्होंने कहा कि ईडी ने धमकी देने के लिए छापेमारी की, लेकिन उनके छापे के बाद, हमेशा की तरह, कैडरों की भावना मजबूत हो गई है।

उन्होंने कहा, “पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया इस छापे की निंदा करता है और चूंकि हम पूरे लोकतांत्रिक मूल्यों को ध्यान में रखते हुए काम करते हैं, इसलिए हम इस तरह के किसी भी छापे के लिए हमेशा तैयार हैं। इस तरह के छापे हमारी हौसला को कम नहीं करते हैं,” उन्होंने कहा। इसके विपरीत, हम हमेशा की तरह न्याय के लिए लड़ते रहेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*