पीएम के विज्ञापन में जिसे घर दिया दिखाया, वह क्या बोली?

पीएम के विज्ञापन में जिसे घर दिया दिखाया, वह क्या बोली?

आज प्रधानमंत्री के एक विज्ञापन की पोल खुल गई। विज्ञापन में एक महिला को पीएम आवास योजना से घर मिला दिखाया गया है। कोलकाता की इस गरीब महिला ने क्या कहा?

कुमार अनिल

आज प. बंगाल में भाजपा की पोल खुल गई। कोलकाता के अखबारों में भाजपा का आधा पन्ना का विज्ञापन है। विज्ञापन में प्रधानमंत्री के बगल में एक महिला का चित्र है, जिसमें महिला प्रधानमंत्री आवास योजना से घर मिलने पर आभार जता रही है। साथ ही लिखा है इस महिला की तरह 24 लाख गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना से घर मिले। कहानी इस प्रकार है।

तेजस्वी के सवाल पर आधा-अधूरा जवाब दे कर फंसी सरकार

आज कोलकाता की एक महिला के घर प्रेस वालों का तांता लगा है। हुआ ये कि उस महिला की तस्वीर प्रधानमंत्री के साथ विज्ञापन में छपी है। सुबह-सुबह महिला के पड़ोसियों ने बताया कि उसका फोटो अखबार में छपा है, तो उसे विश्वास नहीं हुआ। फिर उसने खुद अखबार का विज्ञापन देखा। सुबह न्यूज लॉन्ड्री की पत्रकार उस महिला के घर पहुंची और उससे पूछा कि क्या यह घर उसका है। महिला ने कहा कि नहीं, किराये का है। पांच सौ रुपया महीना किराया लगता है।

महिला ने घर मिलने की बात को झूठ कहा। बताया कि वह बगल के पार्क में झाड़ू-पोंछा करती है। वहां से उसे पांच सौ रुपए मिलते हैं। विधवा पेंशन मिलता है। उसके पति का देहांत 2009 में हो गया था। घर में बेटा, पतोहू और पोते रहते हैं। वह बाहर सोती है। जब बारिश आती है, तो वह घर के भीतर सोती है। न्यूज लॉन्डी का यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

कोरोना से परेशान हुआ मिडिल क्लास, अब तबाही का इंतजार!

कांग्रेस नेता और पार्टी के डिजिटल कम्युनिकेशन के संयोजक गौरव पांधी ने इस वीडियो को ट्विट करते हुए भाजपा पर करारा व्यंग्य किया है। उन्होंने जो वीडियो ट्विट किया, उसे खबर लिखे जाने तक 30 हजार लोग देख चुके थे।

पटना हाईकोर्ट के अधिवक्ता और कांग्रेस की लीगल कमेटी के सदस्य मो. ओबेदुल्लाह ने लिखा है-गजब, मने, झूठ बोले के हद ह। दावा किया कि महाराज ने इस महिला का लाखों का मकान बनवाया। महिला मूल रूप से बिहार के छपरा की रहनेवाली है। पिछले 50 वर्षों से कोलकाता में रहती है और अब छपरा से संपर्क टूट गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*