वंचितों के हक की लड़ाई की सजा भुगत रहे हैं लालू 

बिहार में लोकसभा के पांचवें चरण के चुनाव के ठीक पहले पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने पति एवं राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की तस्वीर के साथ लोगों से मार्मिक अपील करते हुये आज कहा कि वंचितों के हक की लड़ाई लड़ने की वजह से ही तानाशाहों ने श्री यादव को साजिश में फंसाकर जेल भेजा है।

राजद विधानमंडल दल की नेता राबड़ी देवी ने जारी अपील में कहा कि राजद अध्यक्ष को तानाशाह लोगों द्वारा इसलिए प्रताड़ित किया जा रहा है क्योंकि उन्होंने वंचित और उपेक्षित वर्गों की लड़ाई लड़ी। देश में बड़े से बड़े घोटाले हुए लेकिन कब किस मुख्यमंत्री को साजिश का बहाना बनाकर फंसाया गया।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि एक ही मुख्यमंत्री के कार्यकाल में हुए घोटाले को पहले अप्रत्याशित रूप से अलग-अलग मामला बनाकर अलग-अलग सजा सुनाई गई और फिर सारी सजाओं को एक साथ चलने के बजाय एक के बाद एक चलने का फरमान सुनाया गया। जब इतने से भी मन नहीं भरा तो श्री यादव की तबीयत काफी खराब होने के बावजूद उनकी जमानत के रास्ते बंद कर दिए गए। राजद विधानमंडल दल की नेता ने कहा कि इतना ही नहीं श्री यादव को अपने खर्च पर भी अपने पसंद के अस्पताल में इलाज नहीं करवाने दिया गया। जब इलाज के लिए राजद अध्यक्ष को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) जाना पड़ा तो अपने खर्च पर हवाई जहाज का इस्तेमाल करने से भी रोक दिया गया। एम्स में इलाज चल ही रहा था कि आनन-फानन में उनकी जमानत रद्द करवा दी गई। जब इससे भी मन नहीं भरा तो रांची के सुविधाविहीन राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) में इलाज करवाने के लिए मजबूर किया गया।

पूर्व मुख्यमंत्री ने सवालिया लहजे में कहा कि श्री यादव पर क्या एक भी आरोप साबित हुए। उनसे कोई भी पैसों की बरामदगी हुई बल्कि उच्चतम न्यायालय ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में उन्हें बरी कर दिया है। जिस मामले में उन्हें फंसाया गया है उससे नीचे के सभी अधिकारी और मंत्री निर्दोष करार दिए गए लेकिन मुख्यमंत्री को दोषी माना गया, जैसे मुख्यमंत्री ने स्वयं जाकर निकासी अकेले ही कर ली हो। वह भी उस मामले में जिसकी जांच के आदेश श्री यादव ने स्वयं दिये हों। मुद्दई को ही मुद्दालय बना दिया।
राजद की नेता ने कहा कि श्री यादव ने गरीबों का भला और समाज में भाईचारा स्थापित करने के अलावा क्या गुनाह किया है, यह अत्याचार सहने के लिए कौन सा जुर्म किया है। जनता असहाय और मूकदर्शक नहीं है। अभी हम जनता की अदालत में हैं और जनता श्री यादव के साथ हो रहे अत्याचारों का बदला जरूर लेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*