कश्मीर:वादे से राज्यपाल ने मारी पलटी, राहुल समेत तमाम नेताओं को एयरपोर्ट से किया वापस

 कश्मीर:वादे से राज्यपाल ने मारी पलटी, राहुल समेत तमाम नेताओं को एयरपोर्ट से किया वापस

जम्मु कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक अपने वादे से पलटते हुए राहुल गांधी समेत तमाम नेताओं को एयरपोर्ट से ही वापस भेजवा दिया है.

जम्मु कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक क्या राज्य के गंभीर हालात को भी खेल समझते हैं. राज्य से अनुच्छेद 370 समाप्त करने के बाद उन्होंने राहुल गांधी के लिए स्पेशल हवाई जहाज से कश्मीर बुलाने का निमंत्रण दिया था. लेकिन जब राहुल गांधी वहां पहुंचे तो हवाई अड्डे से उन्हें बैरंग वापस भेजवा दिया.

आप को बतायें कि राहुल गांधी के साथ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, एनसीपी नेता माजिद मेमन, सीपीआई लीडर डी. राजा, राजद के मनोज झा के अलावा शरद यादव सहित कई दिग्गज नेता जम्मू-कश्मीर के हालात का जायजा लेने के लिए घाटी पहुंचे थे।

जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने और राज्य को दो केंद्र शासित राज्यों में बांटने के बाद श्रीनगर समेत कुछ शहरों में प्रतिबंध लगे हैं।

राहुल से किये वादे से पलटे कश्मीर के राज्यपाल

सूबे के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैंने राहुल गांधी को सद्भावना से आमंत्रित किया था लेकिन, उन्होंने राजनीति करना शुरू कर दी. सत्यपाल मिल्क ने कहा कि यह इन लोगों द्वारा राजनीतिक कार्रवाई के अलावा कुछ नहीं था.

शरद यादव ने इस मामले में कहा कि हम देश के जिम्मेदार नागरिक हैं. सरकार कहती है कि कश्मीर में हालात सामान्य हैं तो हमें कश्मीर के लोगों से मिलने और वहां की जमीनी स्थिति का जायजा लेने क्यों नहीं दिया गया.

इससे पहले जब कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त करने और राज्य को दो हिस्सों में बांट देने की घोषणा के बाद वहां 144 लागू कर दिया गया था तो राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा था कि यहां के हालात बिल्कुल ठीक हैं. मलिक ने राहुल गांधी को निमंत्रण देते हुए कहा था कि वे चाहें तो उनके लिए स्पेशल प्लेन भेज कर कश्मीर में बुलाने को तैयार हैं. मलिक के इस निमंत्रण पर राहुल ने कहा था कि स्पेशल जेट भेजने की जरूरत नहीं वे खुद आ जायेंगे.

 

कश्मीरी लड़कियों पर अपमानजनक टिप्पणी करने वाले इस BJP विधायक की जन्मकुंडली पढ़ के कोई भी शरमा जायेगा

लेकिन जब राहुल गांधी  अन्य नेताओं के साथ वहां पहुंचे तो उन्हें एयरपोर्ट से बाहर निकलने देना तो दूर, एयरपोर्ट से ही बैरंग वापस भेज दिया गया.

 

कश्मीर पर सुप्रीम कोर्ट में हुई मीडिया पर लगी पाबंदी पर सुनवाई

आप को बता दें कि राज्य में पिछले तीन हफ्ते से कर्फ्यु जैसी स्थिति है. जगह जगह रुकावटें खड़ी की गयी हैं. एएफपी न्यूज एजेंसी का कहना है कि अब तक चार हजार से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. कश्मीर की जेलों में जगह नहीं होने के कारण उन्हें कश्मीर से बाहर की जेलों में भेजा गया है.

वहां अब भी इंटरनेट, मोबाइल सेवायें बंद हैं. इस बीच संयुक्त राष्ट्र संग ने ट्विट कर कहा था कि लोगों को सूचना पाने और देने के अधिकार से वंचित नहीं किया जाना चाहिए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*