तेजस्वी के आह्वान पर हिल रही है दिल्ली: राहुल, केजरीवाल भी कूदे आंदोलन में, सोमनाथ और अखिलेश भी होंगे शामिल

मुजफ्फरपुर जन बलात्कार पर बिहार में उठा आंदोलन अब दिल्ली दरबार पहुंच चुका है. आज शाम केंडल मार्च में तेजस्वी यादव का साथ देने के लिए राहुल गांधी भी शामिल हो रहे हैं. उधर केजरीवाल व सोमनाथ भारती ने तेजस्वी को ट्विट कर कहा है कि वह भी इस आंदोलन में शरीक होंगे.

 

यह पहला अवसर होगा जब राहुल और केजरीवाल एक कौज के लिए एक मंच पर साथ दिख सकते हैं. इसका  श्रेय तेजस्वी को जाता है.

अरविंद केजरीवाल ने तो ‘दिल्ली के लोगों से अपील है कि हमारी बहन बेटियों की सुरक्षा के लिए आज जंतर मंतर पर शाम 5 बजे ज़रूर आयें’.

गौरतलब है कि बिहार के मुजफ्फरपुर बालिकागृह की 42 में से 34 नाबालिग बच्चियों के साथ नियमित रूप से रेप करने की बात की पुष्टि हो चुकी है. इस गृह का संचालक जदयू और भाजपका के रसूखदार नेताओं का करीबी है. उसके खिलाफ बिहार सरकार ने महीने भर तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं किया. इतना ही नहीं जिस दिन संचालक ब्रजेश ठाकुर के खिलाफ एफआईआर हुआ उस दिन भी सरकार ने महिला कल्याण के नाम पर उसे एक ठेका दिया. गरीब और बेबस बच्चियों के साथ इस जघन्य अपराध के खिलाफ तेजस्वी पिछले दो हफ्ते से आंदोलन कर रहे हैं. उन्होंने मामले को सदन में उठाया और गया से पटन के बीच साइकिल मार्च निकाला.

इस बीच आल इंडिया अम्बेडकर महासभा के कंवेनर अशोक भारती ने नौकरशाही डॉट कॉम के सम्पादक इर्शादुल हक को बताया है कि उनका संगठन आज शाम मुजफ्फरपुर मास रेप के खिलाफ धरना में शामिल होगा. आल इंडिया अम्बेडकर महासभा ने 9 अगस्त को एससीएसटी एक्ट को खत्म किये जाने, दलित उत्पीड़न और हकमारी के खिलाफ भारत बंद का आह्वान किया है. भारती ने बताया कि मोदी सरकार एससी एसटी एक्ट को आनन फानन में कैबिनेट से पास कराकर दलितों को गुमराह करना चाह रही है.

तेजस्वी का कना है कि यह कोई राजनीतिक आंदोलन नहीं है. यह बेटियों के सम्मान की लड़ाई है. उन्होने मार्मिक ट्विट करते हुए लिखा है कि वो अनाथ बेटियां जब सरकार के पालने मे आई थी तो उन्होने खुद को महफूज समझा होगा। सोचा होगा कि यहां उनका पालन पोषण होगा, सम्मान और आसरा मिलेगा। प्रेम,करुणा और ममता प्राप्त होगी। लेकिन उन्हें मिला क्या? उन्हें सरकार समर्थित,संरक्षित और संपोषित हैवान ही नोचते रहे.

 

तेस्वी ने ऐलान किया है कि यह राजनीतिक नहीं बल्कि सामाजिक आंदोलन है. उन्होंने कहा जंतर-मंतर पर धरना विशुद्ध रूप से ग़ैर-राजनीतिक है क्योंकि एक सामाजिक कार्यकर्ता होने से पहले मैं 7 बहनों का भाई,एक माँ का बेटा और कई बेटियों व भगिनी का चाचा और मामा हूँ।बच्चियों के साथ हुई इस अमानवीय घटना से मैं सो नहीं पाया हूँ।नीतीश जी क्यों चुप है यह उनसे बेहतर कौन जानता होगा?

 

 

One comment

  1. Mohammad Irshad Ali Ansari Gram Panchayat Raj Dogra Jila Darbhanga Bihar Panchayat Dogra Samiti sadasya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*