सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए शिक्षा जरूरी: राज्‍यपाल

राज्यपाल फागू चौहान ने आज कहा कि अतिपिछड़े-पिछड़े, अनुसूचित जाति एवं जनजाति तथा गरीब-अभिवंचित वर्ग में शिक्षा की कमी है, लेकिन सभी वर्ग सामाजिक समस्याओं से निजात पाकर तथा पारस्परिक एकजुटता बनाये रखकर तेजी से अपना सामाजिक-आर्थिक विकास कर सकते हैं।

श्री चौहान ने ‘नोनिया-बिन्द-बेलदार महासंघ, बिहार प्रदेश’ के तत्वावधान में स्थानीय बापू सभागार में आयोजित ‘सामाजिक समरसता संगोष्ठी एवं अभिनन्दन समारोह’ को संबोधित करते कहा कि अतिपिछड़े-पिछड़े, अनुसूचित जाति एवं जनजाति तथा गरीब-अभिवंचित वर्ग के सदस्यों में शिक्षा की कमी है। सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए शिक्षा सबसे जरूरी जरिया है। उन्होंने कहा कि कमजोर, अभिवंचित तथा पिछड़े-अतिपिछड़े वर्गों के लोग नशा-सेवन, बाल विवाह,दहेजप्रथा आदि सामाजिक समस्याओं से निजात पाकर तथा पारस्परिक एकजुटता बनाये रखकर अपना तेजी से सामाजिक-आर्थिक विकास कर सकते हैं।
इस मौके पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि भाजपा और नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री रहते इस देश में कोई ‘माई का लाल’ नहीं है जो अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़ों के आरक्षण को खत्म या कम कर दें। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान को तोड़-मरोड़ कर कुछ लोग अफवाह फैला रहे हैं। नरेन्द्र मोदी ने तो गरीब सवर्णों को भी 10 प्रतिशत आरक्षण देकर मिसाल कायम किया। बिहार के कर्पूरी फार्मूले की तर्ज पर केन्द्र की नौकरियों में पिछड़ों के आरक्षण के वर्गीकरण लिए आयोग का गठन किया गया है। पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देकर उसका पहला अध्यक्ष बिहार के ही एक पिछड़े के बेटे भगवान लाल साहनी को बनाया है।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश में पहली बार 7 महिलाओं को राज्यपाल बनाया, साथ ही श्री फागू चैहान समेत 9 नवनियुक्त राज्यपाल पिछड़ा, अतिपिछड़ा, अनुसूचित जाति व जनजाति समाज से हैं। वहीं दलित समाज से आने वाले बिहार के पूर्व राज्यपाल को देश के सर्वोच्च पद बैठा कर दलित समाज को सम्मान दिया। एक गरीब के बेटा को जब मौका मिला तो उसने ‘सबका साथ, सबका विकास’ का अपना वायदा पूरा किया।

श्री मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने कश्मीर से एक झटके में धारा- 370 खत्म करके वहां अनुसूचि जाति, जनजाति पिछड़े व अतिपिछड़े समाज को आरक्षण के लाभ का हकदार बना दिया। इसीलिए बसपा प्रमुख मायावती ने भी सरकार के इस कदम का समर्थन किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देते हुए कहा कि जिस नोनिया, बिंद और बेलदार समाज को कांग्रेस ने सत्ता में हिस्सेदारी और सम्मान से वर्षों तक वंचित रखा, उस वंचित समाज के फागू चैहान को बिहार का राज्यपाल बनाकर उन्होंने इतिहास रच दिया है।

कार्यक्रम को राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, कृषि तथा पशु एवं मत्स्य संसाधन मंत्री प्रेम कुमार, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय, खान एवं भूतत्व मंत्री ब्रज किशोर बिन्द समेत अन्य लोगों ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में पूर्व मंत्री रेणु देवी, बिहार संस्कृत शिक्षा बोर्ड की अध्यक्ष डॉ. भारती मेहता समेत अन्य पदाधिकारियों-प्रतिनिधियों ने भी अपने विचार व्यक्त किये। इस मौके पर विधायक संजीव चौरसिया सहित कई जन-प्रतिनिधि, विभिन्न सामाजिक-राजनीतिक संगठनों के पदाधिकारी-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*