रामविलास मौत से झूझ रहे, बेटी दामाद सब दिल्ली पहुंचे

रामविलास मौत से झूझ रहे, बेटी दामाद सब दिल्ली पहुंचे

केंद्रीय मंत्री एवं लोक जनशक्ति पार्टी के पूर्व प्रमुख रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) फ़िलहाल मौत से झूझ रहे है. उनसे मिलने उनके परिवार के लोग दिल्ली पहुंच रहे है। पार्टी ने सीट शेयरिंग पर चर्चा अभी नहीं करने का फैसला किया है.

पुत्र एवं लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा है कि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का दिल्ली में इलाज चल रहा है बेटा होने के नाते मेरा उनके साथ रहना ज़्यादा महत्वपूर्ण है. इस वजह्कर मुझे बिहार आने में देरी होगी”. उन्होंने पार्टी के बिहार चुनाव को लेकर NDA (National Democratic Alliance) के साथ सीट बटवारे पर बातचीत भी फ़िलहाल रोक दी है. उन्होंने कहा कि पिछले तीन हफ्तों से राम विलास का दिल्ली के अस्पताल में इलाज चल रहा है। मुझे उम्मीद है की वह इलाज के बाद जल्द लौट आएंगे।

कृषि बिल के खिलाफ जाप उतरी सड़क पर, फूका मोदी का पुतला

लोक जनशक्ति पार्टी के पूर्व अध्यक्ष रामविलास पासवान के परिवार के सदस्य भी उनसे मिलने दिल्ली पहुँच रहे है. उनके दामाद अनिल कुमार साधु ने ट्वीट कर जानकारी दी कि मेरे पितातुल्य राम विलास पासवान कि स्थिति नाजुक बनी हुई है। मन व्यथित है, परेशान हूँ। भूख, नींद, चैन सब उड़ चुका है।”

उन्होंने दुःख भरे शब्दों में कहा कि”मैं खुद को किसी भी तरह समझा भी लूं पर एक बेटी इस विपरीत परिस्थिति में अपने बीमार पिता से मिले बिना कैसे, किस हाल में होगी, आप इसका अंदाजा स्वयं लगा सकते हैं”।

बता दें कि इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामविलास पासवान की हालत पर फ़ोन करके जानकारी ली है. उन्होंने अस्पताल के डॉक्टरों से भी जानकारी ली है.
चिराग ने अपने ट्विटर हैंडल से कहा कि “आदरणीय प्रधानमंत्री मोदी जी का दिल से धन्यवाद. कल और आज में कई बार प्रधानमंत्री जी ने पापा का हाल जानने के लिए फ़ोन पर बात की. पापा के इलाज में लगे डॉक्टरों से भी माननीय प्रधानमंत्री जी ने बात की. इस घड़ी में माननीय प्रधानमंत्री जी का साथ में खड़े रहने के लिए सहृदय धन्यवाद”.

सरकार के 100 दिन, पासवान ने पढ़ी मोदी-शाह की स्क्रिप्ट, गिनाई उपलब्धियां

बता दें की रामविलास पासवान बिहार के बड़े नेता है और अभी वर्तमान में केंद्रीय मंत्री है. उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से की. 1969 में वह पहली बार बिहार विधान सभा के लिए निर्वाचित हुए थे और 1969 में लोक सभा का चुनाव जीता था. साल 2000 में उन्होंने लोक जनशक्ति पार्टी का गठन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*