चार दिनों में यूपी में ऐसी बदली हवा, पीछे छूट गया राममंदिर मुद्दा

चार दिनों में यूपी में ऐसी बदली हवा, पीछे छूट गया राममंदिर मुद्दा। अखिलेश यादव और राहुल गांधी के साथ आने से बदला मौसम। अब बेरोजगारी, पेपरलीक बना मुद्दा।

उत्तर प्रदेश में हवा बदल गई है। कल तो जो कह रहे थे कि आएगा तो मोदी और राममंदिर के नाम पर भाजपा के लिए लहर मान रहे थे, अब परेशान हैं। राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा में सपा प्रमुख अखिलेश यादव के शामिल होते ही राजनीति का रंग बदल गया है। आगरा में दोनों को देखने-सुनने के लिए भारी भीड़ उमड़ी। सपा-कांग्रेस कार्यकर्ताओं में नया जोश आ गया। यही नहीं, जो भाजपा से खुश नहीं हैं, उस पूरे वर्ग में नई उम्मीद जगी है। सबसे बड़ी बात कि दोनों नेताओं के साथ आने से उत्तर प्रदेश का मुद्दा भी बदल गया है। आज यूपी में बेरोजगारी, पेपरलीक और अग्निवीर योजना का विरोध एजेंडा बन गया है। प्रदेश का युवा वर्ग आंदोलित है।

कांग्रेस ने सोमवार को अग्निवीर योजना के खिलाफ हल्ला बोल दिया। कांग्रेस ने सेना री पुरानी भर्ती में चयनित हो चुके डेढ़ लाख युवाओं को अविलंब बहाल करने की मांग की है। राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने आज राष्ट्रपति को पत्र लिख कर इस योजना के खिलाफ आवाज उठाई। राहुल गांधी तो पहले से बोल रहे थे। राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने दिल्ली में प्रेस वार्ता करके इस योजना को युवाओं के भविष्य को अंधेरे में धकेलने वाला बताया। राजस्थान में सचिन पायलट ने इसी मुद्दे पर प्रेस वार्ता की। याद रहे पश्चिमी यूपी, राजस्थान और हरियाणा के युवा ही सबसे ज्यादा फौज में जाते रहे हैं और राहुल की भारत जोड़ो यात्रा इसी फिलवक्त इसी रास्ते से गुजर रही है।

यूपी में राममंदिर, हिंदू-मुस्लिम का मुद्दा समाप्त तो नहीं हुआ है, पर कमजोर जरूर पड़ा है। कांग्रेस ने कहा कि 2019 से 2022 के बीच सरकार ने 2 लाख युवाओं को सेना भर्ती के लिए चयनित किया था। वे जॉइनिंग लेटर का इंतजार कर रहे थे, तभी सरकार ने 31 मई 2022 को अग्निपथ स्कीम लाकर देश सेवा का उनका सपना तोड़ दिया। अब वे बेरोजगारी, हताशा और निराशा के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। सरकार ने इन युवाओं के साथ अन्याय किया है।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार अब तक कोई प्रतियोगी परीक्षा साफ और पारदर्शी तरीके से नहीं करा पायी है। जब 2017 में पहला पेपर लीक हुआ था तभी अगर सख्त कार्रवाई हुई होती तो दुबारा पेपर लीक नहीं होता लेकिन भाजपा सरकार में हर परीक्षा का पेपर लीक हो रहा है। भाजपा ने नौजवानों से नौकरी देने के झूठे वादे किए। भाजपा सरकार ने युवाओं का भविष्य बर्बाद कर दिया।

By Editor