RJD प्रशिक्षण : पंचायतों की सत्ता पर कब्जे की रणनीति

RJD प्रशिक्षण : पंचायतों की सत्ता पर कब्जे की रणनीति

RJD दक्षिण बिहार का दो दिवसीय प्रशिक्षण शुरु हुआ। हालांकि पंचायत चुनाव दल-आधारित नहीं है, लेकिन राजद की कोशिश पंचायतों पर वैचारिक कब्जे की।

यह महज संयोग नहीं है कि राज्य में पंचायत चुनाव के लिए प्रत्याशी धुआंधार प्रचार कर रहे हैं और राजद जिला से प्रखंड तक के नेताओं का प्रशिक्षण शिविर आयोजित कर रहा है। प्रशिक्षण शिविर में उन सभी मुद्दों पर चर्चा हो रही है, जिसे विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने पिछले विधानसभा चुनाव में उठाया था। इसके साथ ही चुनाव बाद सामने आए नए मुद्दों पर भी बात हो रही है, जिसमें महंगाई, बेरोजगारी से लेकर केंद्र की मोदी और राज्य की नीतीश सरकार की विफलता के सारे मुद्दे भी शामिल हैं।

प्रशिक्षण शिविर में जिला अध्यक्ष, जिला महासचिव से लेकर प्रखंड अध्यक्ष तक शामिल हैं। जाहिर है, प्रशिक्षण शिविर की बातें जिला, प्रखंड के साथ ही पंचायतों तक पहुंचाने की योजना है। पार्टी ने कहा कि हर बूथ तक संदेश ले जाया जाएगा। स्पष्ट है कि पंचायत चुनाव भले ही दलगत आधार पर नहीं हो रहा है, लेकिन पार्टी की कोशिश है कि राजद के विचारों-मुद्दों की पंचायत चुनाव पर छाप पड़े। राजद की यह कोशिश पार्टी को नीचे तक मजबूत आधार देगा, जो भविष्य की राजनीति के हिसाब से निर्णायक होगा। आप कह सकते हैं कि राजद अपने प्रशिक्षण शिविर के जरिये भाजपा को नीचे पंचायत तक जवाब देने की रणनीति पर काम कर रहा है।

तेजस्वी यादव का यह ट्वीट बहुत कुछ कहता है। उन्होंने कहा-आज दक्षिण बिहार के सभी ज़िला अध्यक्ष, जिला प्रधान महासचिव और प्रखंड अध्यक्षों के दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का उद्घाटन किया। पार्टी पंचायत और वार्ड स्तर तक वैचारिक रूप से कार्यकर्ताओं को लैस कर अपनी नीति, सिद्धांतों और समाजवादी विचारधारा का प्रचार-प्रसार करेगी।

तेजस्वी ने प्रशिक्षण शिविर में कहा कि हम एक-एक जिला अध्यक्ष से अलग कमरे में मिलेंगे, समस्या को समझेंगे और समाधान करेंगे।
देश कठिन दौर से गुजर रहा है। संविधान, लोकतंत्र पर खतरा मंडला रहा है। देश की सम्पतियों को बेचा जा रहा है। देश बचेगा या रहेगा इसका फैसला लेना होगा। नफरत की राजनीति हो रही है। आपकी छवि अच्छी रहेगी तो पार्टी की छवि भी अच्छी बनेगी।

राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा कि दल की मर्यादा के लिये जो कुछ करना होगा करेंगे। बूथ, पंचायत, ज़िला कमिटी को माजबूत करने से राजद का पताका फहराएगा। शिविर में पूर्व मंत्री शिवानंद तिवारी, अब्दुलबारी सिद्दीकी, श्याम रजक, शिवचंद्र राम, अशोक कुमार सिंह, बृषण पटेल, मनोज झा, उदय नारायण चौधरी, तनवीर हसन, भोला यादव, शक्ति सिंह यादव, कारी सोएब, एजाज अहमद, चितरंजन गगन,सहित अनेक वरिष्ठ नेता उपस्थित थे। मंच संचालन आलोक कुमार मेहता ने किया।

यूपी में महंत की मौत पर सस्पेंस, चेले ने लगाए सनसनीखेज आरोप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*