संबित पात्रा के पोस्टर में दो भयानक गलतियां, मचा बवाल

संबित पात्रा के पोस्टर में दो भयानक गलतियां, मचा बवाल

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने सोशल मीडिया में पोस्टर जारी किया। कांग्रेस ने किया भाजपा पर बड़ा हमला। कहा, ये देश के लिए सर्वोच्च बलिदान से भी अनभिज्ञ हैं।

फोटो गौरव पांधी के ट्वीट से

आज भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने ट्विटर पर एक पोस्टर जारी किया। जारी करते ही बवाल हो गया। कांग्रेस ने भाजपा पर बड़ा हमला किया। कहा, भाजपा और आरएसएस का देश की आजादी और सीमा की रक्षा करते हुए बलिदान देनेवालों से कोई संबंध नहीं रहा है, जिसका प्रमाण सामने है।

संबित पात्रा ने राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार का नाम बदल कर मेजर ध्यानचंद खेल रत्न किए जाने पर एक पोस्टर जारी किया। पोस्टर में प्रधानमंत्री मोदी का बड़ा चेहरा दिख रहा है, जबकि महान हॉकी खिलाड़ी ध्यानचंद की तस्वीर कोने में इतनी छोटी है कि पहचानना मुश्किल है। दूसरी भयानक गलती पोस्टर में यह है कि खेल रत्न अवार्ड की जगह संबित पात्रा ने परमवीर चक्र का चित्र लगा दिया है, जो देश की समा पर लड़नेवाले बहादुर जवानों को दिया जाता है।

कांग्रेस सोशल मीडिया के संयोजक गौरव पांधी ने पोस्टर अटैच करते हुए ट्वीट किया- परमवीर चक्र सैनिकों को दिया जानेवाला देश का सर्वोच्च सम्मान है। यह उस जवान को दिया जाता है, जिसने युद्ध में असीम साहस का परिचय दिया हो। कैप्टन विक्रम बत्रा परमवीर चक्र पानेवालों में एक हैं। पांधी ने कहा- हमें कोई आश्चर्य नहीं है कि पात्रा को खेल अवार्ड और परमवीर चक्र में फर्क पता नहीं। आरएसएस कभी नहीं जान पाएगा कि स्वतंत्रता आंदोलन हो या बाद में देश की सीमाओं की रक्षा के लिए बलिदान क्या होता है।

इस बीच महान खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद, जिन्हें सम्मान देने के लिए खेल पुरस्कार का नाम उनके नाम पर किया गया, उन्हीं ध्यानचंद की तस्वीर कोने में है और सामने बड़ी तस्वीर प्रधानमंत्री मोदी की है। इस पर सोशल मीडिया में लोग जमकर भड़ास निकाल रहे हैं। हद तो यह है कि इससे पहले भी पदक जीतनेवाले खिलाड़ियों का फोटो कोने में और बधाई देनेवाले नेताओं की तस्वीर बड़ी होने पर तमाम लोगों ने सवाल उठाए थे।

पहली बार पुलिस मुख्यालय राजनीति कर रहा : राजद

आज भी लोग कह रहे हैं कि खेल पुरस्कार का नाम बदल देने से क्या खिलाड़ियों की मुश्किलें कम हो जाएंगी। लोग पूछ रहे हैं कि जब प्रायोजक बनना था, तो केंद्र सरकार पीछे क्यों हट गई, खेल का बजट क्यों कम कर दिया गया?

14 दलों के सांसद किसान संसद में, मोदी पर अविश्वास प्रस्ताव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*