Smart City पर 31 माह कोई काम नहीं बैठक व नाश्ता पर उड़ा दिये 2 लाख रुपये

Smart City पर 31 माह कोई काम नहीं बैठक व नाश्ता पर उड़ा दिये 2 लाख रुपये

Smart City muzaffarpur

Smart City पर 31 माह कोई काम नहीं बैठक व नाश्ता पर उड़ा दिये 2 लाख रुपये

 मुजफ्फरपुर Smart City के कुल 1580 कराेड़ के प्राेजेक्ट का काम  31 महीने में एक इंच नहीं हुआ. पर बैठक-नाश्ता-यात्रा पर 2 लाख रुपये उड़ा दिये गये.

दीपक कुमार ठाकुर,(बिहार ब्यूरो चीफ)

मुजफ्फरपुर:स्मार्ट सिटी की सड़कें स्मार्ट हाेनी हैं। पार्किंग से लेकर साइकिल ट्रैक व पॉथ-वे बनना है। शहर में जगह-जगह हाई रेजाेल्यूशन कैमरे लगाए जाने हैं, जिनसे ट्रैफिक व अपराधियों पर भी नजर रखी जाएगी। लेकिन, मुजफ्फरपुर में बीते ढाई वर्षाें में ऐसा  कुछ नहीं हाे सका है।

Smart City का दर्जा मिले हुए ढाई साल, पर कोई काम नहीं

ऐसे में Smart City काे लेकर जाे उत्साह था, उसमें शहरवासियाें काे अब तक निराशा ही मिली है। मुजफ्फरपुर शहर का 28 जून 2017 काे स्मार्ट सिटी में चयन हुआ था। 1,580 कराेड़ रुपए की योजनाओं पर मुहर लगी। हालत यह है कि स्मार्ट सिटी का दर्जा मिले 31 महीने यानी ढाई वर्ष से अधिक गुजर गए, लेकिन याेजना के मुताबिक एक भी काम शुरू नहीं हुआ।

स्मार्ट सिटी के प्रस्ताव को स्क्रीनिंग कमेटी से मंजूरी, अंतिम फैसला केंद्र के हाथ में

हां, समय-समय पर बैठकें जरूर हाेती रही हैं। चाय-नाश्ता और वर्कशाॅप यात्रा के नाम पर 2 लाख रुपए से अधिक खर्च भी हाे चुके हैं। दूसरी ओर काम के नाम पर महज 197.52 कराेड़ रुपए की याेजना की DPR तैयार कर टेंडर कराया गया, जाे प्रक्रियाधीन है।

 

स्मार्ट राेड के निर्माण काे लेकर काेई एजेंसी तक टेंडर नहीं डाल रही है। याेजना में टेक्नोलॉजी, एजुकेशन, एंटरटेनमेंट काे लेकर अब काम भी शुरू नहीं हुआ है। जबकि, इन सभी कार्याें के लिए स्मार्ट सिटी लिमिटेड कंपनी बन चुकी है।

इन दाे हिस्साें में बंटा है स्मार्ट सिटी का काम

एरिया बेस्ड डेवलपमेंट वर्क : क्षेत्र आधारित काम। 1268 कराेड़ के प्लान में लक्ष्मी चाैक, ब्रह्मपुरा, महेश बाबू चाैक, इमलीचट्टी, स्टेशन राेड, सदर अस्पताल, सिकंदरपुर मन, सूतापट्टी, सरैयागंज टावर, कंपनीबाग, अखाड़ाघाट राेड, कल्याणी चाैक व हरिसभा शामिल हैं। इनमें स्मार्ट सड़क के साथ-साथ आईसीसीसी बिल्डिंग व साैंदर्यीकरण के काम पहले फेज में हाेंगे।

पैन सिटी डेवलपमेंट पूर्ण शहर आधारित  विकास। इसके लिए 312 कराेड़ रुपए के प्लान हैं। इनमें पूरे शहर में ट्रांसपाेर्ट सिस्टम, स्ट्रीट लाइटिंग, सिटी गवर्नेंस पर काम हाेना है।

इन याेजनाओं की DPR स्वीकृत

61 लाख रुपए से बनना है टूरिस्ट इंफार्मेशन सेंटर
133.09 कराेड़ रु. इमलीचट्टी बस स्टैंड के विकास पर
6.7 कराेड़ से स्मार्ट मिनी बस स्टाॅप व ई-रिक्शा स्टाॅप
5.67 कराेड़ रु. नगर थाना-कल्याणी-हरिसभा राेड
3.48 कराेड़ रु. से शहर में 10 जगहाें पर जंक्शन वर्क
1.54 कराेड़ रु. इंदिरा पार्क के डेवलपमेंट पर

टेंडर की प्रक्रिया में

इंट्रीग्रेटेड कमांड एंड कंट्राेल सेंटर, कुल राशि- 137 कराेड़, एमआरडीए में हाेना है निर्माण
जंक्शन से एमआईटी-बैरिया वाया लक्ष्मी चाैक राेड, राशि- 38.75 कराेड़, तीसरी बार टेंडर
अखाड़ाघाट-जंक्शन एबीडी एरिया में राेड, राशि- 20.73 कराेड़, तीसरी बार हाेगा टेंडर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*