52 घंटों से अंडर हाउस एरेस्ट जैसी जिंदगी जी रहे हैं निलंबित एसएसपी विवेक कुमार

पिछले 52 घंटों से अंडर हाउस एरेस्ट जैसी स्थित में घिरे विवेक ना कुछ खा रहे हैं ना सो पा रहे हैं. निगरानी व्यूरो की 44 सदस्यीय टीम पिछले तीन दिनों से भ्रष्टाचार मामले में दस्तावजों को खंगाल रही है। आय से 300 गुणा ज्यादा संपत्ति होने की बात सामने आ रही है। 

पटना । आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में निलंबित मुजफ्फरपुर एसएसपी विवेक कुमार पिछले 52 घंटों अंडर हाउस एरेस्ट हैं। उनके सरकारी आवास के अंदर से बाहर और बाहर से अंदर जाने की किसी को इजाजत नहीं है। यहां तक कि एसएसपी आवास और कार्यालय के अंदर तैनात कर्मचारियों को भी पिछले तीन दिनों से रोक कर रखा गया है। उनके सरकारी आवास की किलेबंदी कर दी गयी है। बीएमपी के जवानों ने आवास को सुरक्षा घेरे में ले लिया है। एसएसपी विवेक कुमार, उनकी पत्नी और डेढ़ साल का बेटा समेत तमाम कर्मचारी अंदर मौजूद हैं, जबकि आवास के बाहर मीडियाकर्मी लगातार डटे हुए हैं।

आवास के अंदर रोजाना 44 लोगों का नाश्ता और भोजन बाहर से जा रहा है, लेकिन कहा जा रहा है कि चुपचाप सोफे पर बैठे विवेक कुमार कुछ खा नहीं रहे हैं और साथ ही उनकी रातों की नींद भी गायब है।

मालूम हो कि पिछले तीन दिनों से विवेक कुमार के सरकारी आवास समेत कई टिकानों पर छापेमारी जारी है। कुल 44 लोगों की टीम एसएसपी के कामकाज को खंगालने में जुटी है। इस टीम में  निगरानी के 20 और बीएमपी-1 के 24 लोग (सुरक्षाकर्मी) शामिल हैं। इस टीम में दो आईपीएस अधिकारी और एक महिला डीएसपी भी शामिल हैं।

सूत्रों की माने तो विवेक कुमार के खिलाफ कई चौंकानेवाले सबूत मिले हैं, जिसके कारण जांच का दायरा बढ़ गया है। विवेक कुमार के कागजात को खंगालने के बाद आय से 300 गुणा ज्यादा संपत्ति होने की बात सामने आ रही है। कहा जा रहा है कि एसएसपी के आवास से अवैध हथियार भी बरामद किया गया है। इतना ही नहीं जिले के करीब आधा दर्जन थानों से स्पेशल केस की फाइल मंगायी गयी है और एसएसपी के विभागीय कामकाज की जांच की जा रही है। उनके शराब माफियाओं से मिलीभगत की भी जांच हो रही हैं। ऐसी आशंका जाहिर की जा रही है कि 300 गुणा ज्यादा संपत्ति से पीछे शराब माफियाओं से उनका संबंध हो सकता है। हालांकि पूरे मामले में कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*