बिहार वासियों आपने बंद सफल बनाया और दंगाई संघियों के हाथों बिक चुके नीतीश को बेनकाब किया

बिहार वासियों आपने बंद सफल बनाया और दंगाई संघियों के हाथों बिक चुके नीतीश को बेनकाब किया

बिहार वासियों आपने बंद सफल बनाया और दंगाई संघियों के हाथों खुदको गिरवी रख चुके नीतीश को बेनकाब किया

प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने NRC और नागरिकता संशोधन क़ानून के विरुद्ध राजद द्वारा आहूत बिहार बन्द को अपना बहुमूल्य समर्थन व सहयोग देने के लिए सभी बिहारवासियों कोधन्यवाद देते हुए कहा कि आपने दंगाई संघियों के हाथों खुदको गिरवी रख चुके नीतीश कुमार को बेनकाब कर दिया.

। आम बिहारवासियों के अलावा राजद गठबंधन के सभी समर्थकों, कार्यकर्ताओं व अभिभावक तुल्य वरिष्ठ नेताओं, युवा साथियों का भी धन्यवाद देता हूँ जिन्होंने पार्टी के एक आह्वान पर अपने सतत एकीकृत प्रयास से दम्भी सत्ताधारियों की नींद ही उड़ा दी। पहली बार आदरणीय राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री लालू प्रसाद जी की अनुपस्थिति में उनके असीम आशीर्वाद से पार्टी ने अभूतपूर्व सफ़ल कार्यक्रम किया।
 तेजस्वी ने कहा कि बिहार बन्द को ऐतिहासिक रूप से अप्रत्याशित व अतुलनीय बनाने के लिए राज्यभर के संघर्षशील विद्यार्थियों, युवाओं, राजनीतिक, गैर राजनीतिक व सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं, सिविल सोसायटी व संविधान के लोकतंत्र व धर्मनिरपेक्षता में विश्वास रखने वाले सभी प्रबुद्ध साथी नागरिकों और मीडिया के साथियों का तहेदिल से शुक्रगुज़ार  हूँ।

नीतीश पर जम कर बरसे तेजस्वी

तेजस्वी ने जोर देते हुए कहा कि सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने एक बार फिर से पलटी मारकर रीढ़हीनता का परिचय देते हुए अपना नीति, सिद्धांत, विचार को दंगाई संघियों के हाथों बेचकर दलित, पिछड़ा, अति पिछड़ा और अल्पसंख्यक विरोधी विभाजनकारी चरित्र व चेहरे का पर्दाफाश कर सभी गरीब समुदायों को एकजुट कर दिया है। जनादेश अपमानकर्ता नीतीश कुमार जी के दोहरे चाल, चरित्र और चेहरे के चलते आज बिहारवासी लामबंद है।
 तेज्सवी ने अपने में कहा है कि  यह देश हर धर्म, सम्प्रदाय, जाति, विचारधारा वालों का है। हमारी पूर्वजों ने यहाँ अंतिम साँस ली है, पंचतत्व में विलीन हुए हैं, सुपुर्द ए ख़ाक हुए हैं, उन्होंने देश के लिए जान दी है, हर तरह की कुर्बानी दी है। अब कुछ विभाजनकारी तत्व उनसे, उनकी नस्लों से, हमसे भारतीय होने का सबूत माँगेंगे?

हम पहले भारतीय हैं

हम सब पहले भारतीय हैं, बाद में हिन्दू या मुसलमान! अब कोई भी भारतीय दूसरे भारतीय से अन्याय सहन नहीं करेगा। देश गरीबी, बेरोजगारी, महँगाई, अव्यवस्था, बदतर शिक्षा व स्वास्थ्य सुविधाओं, बीमार अर्थव्यवस्था, दाने दाने को मोहताज किसानों की समस्याओं से जूझ रहा है। केंद्र व राज्य सरकार हर समस्या से निपटने में नाकाम है। इसी नाकामी और नकारेपन पर पर्दा डालने के लिए डबल इंजनधारी हिन्दू-मुस्लिम कर देश को आपस में लड़वाना चाहते हैं। बिहार बन्द के ज़रिए इनके तानाशाही रवैये के विरुद्ध कड़ा जवाब देने के लिए बिहार की जनता का कोटि-कोटि धन्यवाद। हमारा संघर्ष जारी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*