छठ-दिवाली याद रही, Modi ने छोड़ा बक़रीद तो हो गए Troll

Asaduddin Owaisi & PM Narendra Modi

दीवाली और छठ पूजा तक गरीबों को मिलेगा मुफ्त राशन, 80 करोड़ लोगों को होगा लाभ।

Prime Minister Narender Modi जब कभी पर्वों की बात किया करते हैं तब मुसलमानों (Muslims) के पर्व को नज़रअंदाज़ कर जाते हैं। 30 जून को भी जब वो लाइव आकर ग़रीबों को दिए जाने वाले मुफ्त राशन की बात कर रहे थे। जिसमें उन्होंने ऐलान किया किया ग़रीबों को मुफ्त राशन जो दिया जा रहा है वो नवंबर तक यानी दिवाली और छठ पूजा तक मुफ्त मिलेगा। तो उन्होंने दीवाली और छठ की बात की मगर बक़रीद जोकि जुलाई में ही है उसका ज़िक्र नहीं किया।

पहले भी जब वो दूसरी बार लॉकडाउन बढ़ा रहे थे तो रमज़ान सामने होने के बावजूद उसका कोई ज़िक्र नहीं किया था। शायद ये उनका मुसलमानों को नज़र-अंदाज़ करने का अपना एक अंदाज़ है।

इसी बात को पकड़ते हुए Assaduddin Owaisi ने Tweet किया है, उन्होंने China Issue पर भी पीएम नरेन्द्र मोदी को Tag करते हुए कटाक्ष किया-

“आज चीन पर बोलना था, बोल गए चना पर। ये भी ज़रूरी था क्योंकि आपके अनियोजित लॉकडाउन ने कई कामकाजी लोगों को बिना भोजन के छोड़ दिया था। यह भी देखा कि आपने आने वाले महीनों में कई त्यौहारों को सूचीबद्ध किया लेकिन बक़रीद को छोड़ दिया। चलिए फिर भी आपको पेशगी बक़रीद मुबारक।“

Pappu Yadav ने Big B को कहा- आप महानायक नहीं सत्ता के दलाल हैं

 नरेन्द्र मोदी शायद ये भूल जाते हैं कि वो देश के प्रधानमंत्री हैं, न कि RSS या BJP के सिर्फ़ एक नेता। ये देश जिसने ख़ून के बदले आज़ादी पाई है, और ख़ून चाहे किसी का भी हो, उसका रंग लाल ही होता है।

इसके लिए भगत सिंह ने रस्सी गले में लगाई तो बटुकेश्वर दत्त ने भी, इसके लिए पीर अली भी फांसी चढ़े तो अशफ़ाकउल्लाह भी।

अगर देश के पहले गृहमंत्री सरदार बल्लब भाई पटेल थे तो पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद। देश में होमी जहांगीर भाभा ने जन्म लिया तो एपीजे अबुलकलाम ही मिज़ाईल मैन बने।

1857 का विद्रोह अगर देश की आज़ादी की पहली लड़ाई थी तो उसका रहनुमा बहादुर शाह ज़फ़र।

देश को अगर गांधी ने आज़ादी दिलाई तो सीमांत का गांधी कहे जाने वाले थे ख़ान अब्दुल ग़फ्फार ख़ां।

देश को सारे जहां से अच्छा कहने वाला भी कोई और नहीं था बल्कि इक़बाल ही थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*