बिहार चुनाव प्रचार से क्यों आउट हैं अमित शाह?

बिहार चुनाव प्रचार से क्यों आउट हैं अमित शाह?

तेजस्वी के आक्रामक चुनाव प्रचार से जहां भाजपा खुद को डिफेंड करने में लगी है वहीं नरेंद्र मोदी के बाद सबसे बड़े प्रचारक अमित शाह चुनाव प्रचार से गायब हैं.

हालांकि यह अमित शाह ( Amit Shah) ही हैं जिन्होंने बिहार चुनाव प्रचार के लिए पहली डिजिटल रैली की थी. लेकिन वही अमित शाह आखिर क्यों चुनाव अभियान के पूरे सिन से गायब हैं. यह सवाल आम लोग तो पूछ ही रहे हैं, खुद भाजपा के कार्यकर्ता भी इस सवाल का जवाब तलाशने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन किसी को कोई सटीक औऱ प्रमाणिक जवाब नहीं मिल रहा है.

बिहार चुनाव: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फिर से बोला झूठ

हालांकि बिहार भाजपा के आला कमान को आधिकारिक रूप से यह बता दिया गया है कि अमित शाह व्यक्तिगत कारणों से बिहार में चुनाव प्रचार के लिए उपलब्ध नहीं हो सकेंगे. आज की तारीख तक तीन में से दो चरण के चुनाव हो चुके हैं. पहले चरण में 71 औऱ दूसरे चरण में 94 सीटों पर चुनाव आज खत्म हो रहा है.

जहां तक अमित शाह के चुनाव प्रचार की भाजपाई लिस्ट से गायब होने की बात है तो ‘व्यक्तिगत कारणों’ को स्पष्ट नहीं किया गया है. इस कारण लोगों का सवाल पूछना लाजिमी है.

कोरोना संक्रमण के बाद काफी कमोजर हो चुके हैं अमित शाह

भाजपा के करीबी सूत्रों का कहना है कि चूंकि अमित शाह को पिछले दिनों कोरोना संक्रमण हो गया था इसिलए उन्हें आराम करने की सलाह डाक्टरों ने दी है. बताया जाता है कि अमित शाह पहले से ही ब्लडप्रेशर और सुगर समेत अनेक बीमारियों के शिकार हैं. ऐसे में उनका कोरोना संक्रमित हो जाने कारण उनकी रोग निरोधक क्षमता काफी कमजोर हो गयी है. और यही कारण है कि अमित शाह लम्बी हवाई यात्रा करके बिहार आने और प्रचार करने में समर्थ नहीं है.

आपको याद दिला दें कि अमित शाह नोएडा के एक निजी अस्पताल में तब भर्ती हुए थे जब उन्हें कोरोना को शिकार होना पड़ा था. लेकिन उसके बाद वह लगातार एम्स में चेकअप के लिए जाते रहे.

इसस पहले दिसम्बर जनवरी में भी अमित शाह अचानक सार्वजनिक जीवन से अनुपस्थित हो गये थे. उसके बाद उनके स्वास्थ्य पर काफी सवाल उठाये जाने लगे थे. इसके बाद खुद अमित शाह सामने आये थे और बताया था कि वह स्वस्थ्य हैं. लेकिन उनके स्पष्टीकरण के बावजूद कम ही लोग उनके जवाब से सहमत हो सके थे.

आप को याद दिला दें कि अमित शाह ने बिहार में चुनावी अभियान की भले शुरुआत की थी लेकिन तब भी वह बिहार नहीं आये थे बल्कि दिल्ली से ही डिजिटल रैली को संबोधन किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*