जमातियों पर दंगाई मीडिया की जहरीली खबरों की खुली पोल, ZOOM के Factcheck में खुलासा

एक फैक्ट चेक वेबसाइट ने गहन अध्ययन के बाद बताया है कि तबलीगी जमात के सदस्यों में कोरोना संक्रमण और इज्तमा के कारण इस बीमारी के फैलने की खबरों में झूठ का जम कर हवा दी गयी.

फैक्ट चेक करने वाली वेबसाइट BOOM ने अपनी अध्ययन रिपोर्ट- “Fake News in The Time of Coronavirus: A BOOM Study” छापी है है.

इस अध्ययन रिपोर्ट को इंडियन एक्सप्रेस ने भी बड़े प्रमुखता से छापी है.

इस रिपोर्ट में बताया गया है कि जनवरी से ले कर मई के बीच ऐसी 178 खबरों की जांच की गयी है. इसमें बताया गया है कि इन तमाम खबरों में से कम से 35 प्रतिशत खबरें अफवाह पर आधारित थीं और उनका तथ्यों से कोई लेना देना नहीं था.

जन आक्रोश की आशंका खत्म करने के लिए जमात को बनाया बलि का बकरा?

BOOM ने यह स्टडी सोशल मीडिया के ट्रेंडिग खबरों, खबरों के लिए इस्तेमाल किये गये डेटा और अन्य स्रोतों के आधार पर की गयी है.

News18Bihar की दंगाई पत्रकारिता से फैल सकती है बिहार में हिंसा

इस अध्ययन में यह भी बता या गया है कि इस तरह की अफवाह की खबरों में 29.4 प्रतिशत खबरें ऐसी थी जो किसी सेलेब्रिटी की तस्वीर और उनके कथन से उद्धित की गयी थीं जो कि पूर्णरूप से असत्य थीं.

कोरोना पर साम्प्रदायिक जहर फैलाने वाले SSB कमांडेंट को जेल भेजा जाये

काबिले जिक्र है कि मार्च और अप्रैल में तबलीगी जमात द्वारा दिल्ली में आयोजित इज्तेमा और जमातियों के बारे में दंगाई चिरत्र के मीडिया ने खबरों को कम्युनल ऐंगल दे कर जमात को बदनाम करने की साजिश रची थी. इसके बाद साफ तौर पर बताया जाता था कि जमातियों के कारण कोरोना वायरस का संक्रमण फैला है. कई खबरों में तो यहां तक इल्जाम लगाया गया था कि जमाती जान बूझ कर कोरोना फैला रहे हैं. दंगाई मीडिया के एक हिस्से ने इसे कोरोना जिहाद तक कहना शुरू कर दिया था.

इस अध्ययन में यह भी बताया गया है कि जमातियों द्वारा डाक्टरों पर थूके जाने, इलाज में सहायता ना करने, और डाक्टरों पर हमले करने की खबरें भी झूठ पर आधारित थीं.

आप को बता दें कि मीडिया के एक हिस्से द्वारा जमातियों के बारे में इतना जहर फैलाया गया कि कई स्थानों पर मुस्लिम हाकरों को सब्जी बेचने पर पीटा जाने लगा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*