चंपारण के लोगों को सेवा के लिए पद नहीं श्रद्धा चाहिए: एपी पाठक

चंपारण के लोगों को सेवा के लिए पद नहीं श्रद्धा चाहिए: एपी पाठक


बाबु धाम ट्रस्ट के संस्थापक और भारत सरकार में वरिष्ठ नौकरशाह रहे एपी पाठक ने संवाददाताओं से बताया की चंपारण से उनका लगाव जन्म जन्मांतर से है। मातृभूमि होने के बावजूद यहां की प्रकृति और लोगों का प्रेम आकर्षण का रहता है।


फिलहाल एपी पाठक का चंपारण के अलग अलग क्षेत्रों का दौरा चल रहा है।इसी क्रम में 10/03 को वो भगवान भोलेनाथ के दरबार तेलपुर देवराज में माथा टेके और तेलपूर देवराज के सैंकड़ों लोगों को संबोधित भी किया।


उन्होंने बताया कि जब भी वे मातृभूमि आते है तेलपुर देवराज का दौरा निश्चित करते है।


तेलपुर देवराज के लोगों ने उन्हें अपर स्नेह और प्रेम दिया है।
इससे पूर्व एपी पाठक जी बरसात से पहले एक बार फिर मसान नदी का जायजा लिए और ग्रामीणों के अनुरोध पर कटाव और फ्लड फाइटिंग के विषय पर वरीय अधिकारियो से चर्चा किए।


एपी पाठक ने बताया की मसान नदी का गाइड बांध का प्रस्ताव पास है परंतु इस वित्तीय वर्ष में बजट नहीं मिला है फिलहाल इस समय फ्लड फाइटिंग और चिंहित जगहों पर ठोकर लगाकर ही नदी का कटाव रोका जा सकता है।


नदी का गाइड बांध जल्द ही शुरू होगा।उक्त बातें सुनते ही सभी ग्रामवासियों ने एपी पाठक को तालियों की गड़गड़ाहट से धन्यवाद किया।
साथ ही सभा में आए कुछ निकाय जनप्रतिनिधियो द्वारा मंजुबाला पाठक को एमएलसी चुनाव लड़ाने के आग्रह पर उन्होंने कहा कि मंजुबाला पाठक अस्वस्थता के कारण चुनाव
नहीं लड़ेंगी।


साथ ही उन्होंने कहा कि समाज के लोगों की सेवा के लिए पद नहीं अपितु दिल और जज्बा होनी चाहिए।


ज्ञातव्य है कि बाबु धाम ट्रस्ट की अध्यक्षा मंजुबाला पाठक और संस्थापक एपी पाठक पिछले एक दशकों से अधिक समय से गैर राजनीतिक रूप से गरीबों , पीड़ितो , महिलाओं और जरूरतमंदों की सेवा अपने बाबु धाम ट्रस्ट के माध्यम से करते आ रहे हैं।
इस दौरे में भी एपी पाठक ने सैंकड़ों लोगों और परिवारों को मदद किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*