झारखंड में हुए 43 डीएसपी के तबादले में शामिल पीएन सिंह काफी आहत हैं. उन्हें मात्र आठ महीने में तबादला कर दिया गया जबकि वह कुछ महीने में रिटायर होने वाले हैं.ahref=”http://naukarshahi.com/archives/6543/dsp-pnsingh” rel=”attachment wp-att-6552″>dsp.pnsingh

अपने करियर के शानदार रिकार्ड की बदौलत डीएसपी पीएन सिंह खासे चर्चित रहे हैं. हाल ही में मेयर चुनाव में नोट फॉर वोट मामले के अनुसंधानकर्ता रहे सिटी डीएसपी पीएन सिंह आठ माह में ही हुए तबादले से इतने नाराज हैं कि वह नौकरी छोड़ने पर आमादा हैं.

उन्हें सिटी डीएसपी से ट्रांस्फर कर विशेष शाखा में भेजा जा रहा है. पर उन्होंने विशेष शाखा में योगदान नहीं देने का निर्णय लिया है.

उन्होंने इसकी जानकारी वरीय पुलिस अधिकारियों को भी दे दी. अब उन्हें विशेष शाखा में योगदान देने के लिए मनाने में कुछ अधिकारी जुट गये हैं.

बताया जाता है कि नोट फॉर वोट मामले में पीएन सिंह किसी दबाव में आये बिना काम किया था जिससे कई बड़े लोग उनसे खफा थे. इसी का उन्हें अंजाम भुगतना पड़ रहा है. वह इस मामले में बडे लोगों की भूमिका की भी जांच कर रहे थे. उन्हें कई अहम सुराग मिले थे.

और कुछ ही दिनों में कई रहस्यों से वह पर्दा उठाने वाले थे. बिंदुओं पर जांच नहीं करने का उन पर काफी दबाव था.

पर उन्होंने अपनी जांच जारी रखी थी. ऐसी स्थिति में अचानक हुआ उनका तबादला कई संकेत दे रहा है.

By Editor