आधी रात को नहीं, आज भी नहीं, कल मोरबी जाएंगे PM

आधी रात को नहीं, आज भी नहीं, कल मोरबी जाएंगे PM

गुजरात में 141 लोग मारे गए। आज प्रधानमंत्री गुजरात में ही थे, पर मोरबी नहीं गए। राजद-कांग्रेस ने उठाया सवाल। @Ashok_Kashmir ने बताया पटेल होते तो क्या करते।

रविवार शाम को गुजरात के मोरबी में पुल टूटने के कारण 141 लोग मारे गए। कई लोगों को उम्मीद थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सारा काम छोड़कर आधी रात को ही गुजरात पहुंच जाएंगे। हाल के दिनों में वे प्रायः रोज ही गुजरात जाते हैं या वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये संबोधित करते हैं। आज सोमवार को भी प्रधानमंत्री गुजरात में ही थे। उन्होंने एक कार्यक्रम में भाषण भी दिया। लेकिन वे मोरबी नहीं गए, जहां लोग दुख में डूबे हैं। मीडिया से मिली खबरों के अनुसार वे घटना के तीसरे दिन यानी मंगलवार को मोरबी जाएंगे और पीड़ितों से मुलाकात करेंगे।

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के केवड़िया में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी (सरदार पटेल की विशाल प्रतिमा) के निकट लोगों को संबोधित किया। लेखक अशोक कुमार पांडेय ने उन्हीं सरदार पटेल को याद करते हुए लिखा कि ऐसा हादसा होने पर वे क्या करते। लेखक ने ट्वीट किया-गुजरात के कुछ हिस्सों में प्लेग आया तो सरदार पटेल इतने व्यग्र हुए कि सब छोड़कर महीनों सेवा और बचाव में लगे रहे। अहमदाबाद में बाढ़ आई तो आधी रात को अधिकारियों को उठाकर राहत काम में लग गये। 140 से अधिक लोग मारे गये हैं और उसी सरदार का जन्मदिन मनाने वाले अभी #Morbi पहुँच नहीं पाए।

युवा कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास ने PM पर तंज कसा कि इतनी बड़ी घटना के बोद भी प्रधानमंत्री भाषण देने में मशगूल हैं। लाशें अभी भी नदी में लापता है, 141+ परिवार तबाह हो चुके है..! लेकिन साहेब का एक ही उसूल, The Show Must Go On!! पूरे 27 मिनिट का भाषण हुआ, शोकसभा की जगह सरकारी इवेंट जारी रहा।

इधर बिहार में रविवार को आधी रात में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव घाटों में सुरक्षा प्रबंध का जायजा लेने गंगा किनारे पहुंचे। उनका वीडियो वायरल है। राजद ने गुजरात की घटना पर कहा-गुजरात में पुल गिरने से 140 निर्दोष लोगों की हत्या हो गयी लेकिन भ्रष्टाचार और मौतों पर गोदी मीडिया में सन्नाटा है क्योंकि वहाँ 27 वर्षों से BJP सरकार है। गोदी मीडिया मोदी-शाह के गृह राज्य में कोई दोष और अवगुण तो देखेगी नहीं? कल्पना कीजिए अगर 140 मौतें गैर-भाजपा शासन में होती तो?

गुजरात मॉडल : मच्छर मारनेवाली कंपनी को पुल रिपेयर का ठेका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*