पूर्व सांसद Ashfaque Karim राजद छोड़ कर शनिवार को जदयू में शामिल हो गए। मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, विजय कुमार चैधरी एवं सांसद संजय झा ने जदयू में उनका स्वागत किया और सदस्यता दिलाई।

जदयू ने प्रस बयान जारी करके कहा कि पूर्व सांसद Ashfaque Karim के नेतृत्व में राजद के कई वरिष्ठ नेताओं ने जद(यू0) का दामन थामा। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा, बिहार सरकार के मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, मंत्री विजय कुमार चैधरी एवं राज्यसभा सांसद संजय कुमार झा ने संयुक्त रूप से करीम को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता दिलाई। इस मौके पर मुख्य रूप से विधानपार्षद संजय कुमार सिंह उर्फ ‘गांधी जी’, विधानपार्षद सह पार्टी के कोषाध्यक्ष ललन कुमार सर्राफ, विधानपार्षद खालिद अनवर, राज्य सुन्नी वक्फ बोर्ड’ के अध्यक्ष मोहम्मद इरशाद उल्लाह, राज्य शिया वफ्फ बोर्ड के अध्यक्ष मोहम्मद अफजल अब्बास, डाॅ0 नवीन आर्य, अरविन्द निषाद एवं श्री रणविजय कुमार मौजूद थे।

उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि अल्पसंख्यक समाज में Ashfaque Karim की एक अलग पहचान है एवं पूरे प्रदेश के अकलियत वर्ग में Ashfaque Karim का मजबूत प्रभाव भी है इसलिए हमें पूरा विश्वास है कि पार्टी में इनके आने से हमारे संगठन को धरातल पर काफी बल मिलेगा। Ashfaque Karim ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कार्यों से प्रभावित होकर जदयू परिवार में शामिल होने का अच्छा निर्णय लिया है। हम उनका और उनके सभी साथियों का हार्दिक स्वागत है।

क्या 23 सीटों पर चुनाव लड़नेवाले RJD को घोषणापत्र जारी करने का हक नहीं?

माननीय जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चैधरी ने कहा कि इस बार अल्पसंख्यक समाज का स्पष्ट झुकाव जद(यू0) की ओर दिख रहा है। अशफाक करीम राजद में घुटन महसूस कर रहें थें क्योंकि वहाँ अल्पसंख्यक समाज का हक छीना जा रहा था। वहीं नीतीश कुमार ने अल्पसंख्यक समाज के हकों की हिफाजत की है। विजय कुमार चैधरी ने भागलपुर दंगों का जिक्र करते हुए कहा कि राजद ने भागलपुर दंगों के गुनहागरों को न सिर्फ बचाया बल्कि उन्हें सम्मानित करने का काम किया। बिहार में जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार बनी तब भागलपुर के दंगा पीड़ितों को न्याय मिला।

बिहार में नहीं चल पा रहा मुस्लिम लीग, मछली, बेरोजगारी बन रही मुद्दा

By Editor