अतिपिछड़ा छात्रवृत्ति बंद करने के खिलाफ PM का पुतला फूंका

JDU प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने केंद्र द्वारा पिछड़ा-अतिपिछड़ा वर्ग के छात्रों की छात्रवृत्ति बंद करने का किया विरोध। जदयू ने किया राज्यव्यापी प्रतिवाद।

जदयू प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा पिछड़ा एवं अतिपिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं की छात्रवृति योजना को बंद करना इन वर्गों के छात्र-छात्राओं के विरुद्ध बड़ी साजिश है। केंद्र की भाजपा सरकार वंचितों का हक छीनने पर उतारू है।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा जदयू पिछड़े वर्ग के इन बच्चों के हक को छीनने के केंद्र सरकार के इस निर्णय को एक क्षण भी बर्दाश्त नहीं करेगा। हमारी पार्टी ने इस निर्णय के खिलाफ आज से ही जनान्दोलन और जन जागरण अभियान की शुरुआत कर दी है। इस अभियान के तहत आज प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर जदयू कार्यकर्ताओं द्वारा प्रधानमंत्री का पुतला दहन किया जा रहा है।

उमेश सिंह कुशवाहा ने बताया कि इस छात्रवृति योजना के तहत केंद्र सरकार द्वारा 50ः और राज्य सरकार द्वारा 50ः राशि वहन की जाति है। केंद्र सरकार ने नया नियम बनाकर पहले नवम एवं दशम के छात्रों की छात्रवृति बंद की और अब यशस्वी योजना के में प्रथम से लेकर आठवीं के छात्र-छात्राओं को शामिल कर उनके छात्रवृति की राशि को बीते कुछ समय से दुर्भावनापूर्ण ढ़ंग से रोक कर केंद्र सरकार बच्चों के साथ भद्दा मजाक कर रही है।
उमेश कुशवाहा ने आगे कहा कि केंद्र सरकार ने जान-बूझकर यह कदम उठाया है, इससे साफ जाहिर होता है कि मोदी सरकार पिछड़ा-अतिपिछड़ा विरोधी है। परन्तु बिहार में दलितों- पिछड़ों को समर्पित सुशासन की सरकार है। हमारी सरकार किसी भी कीमत पर अतिपिछड़े और पिछड़े समाज के हितों से समझौता नहीं करेगी। केंद्र सरकार के इस निर्णय के बाद माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी अतिपिछड़े-पिछड़े वर्गों के प्रथम कक्षा से लेकर दशम कक्षा तक के छात्रों को अपने संसाधनों से छात्रवृति दे रही है।

प्रेसवार्ता के दौरान प्रदेश अध्यक्ष ने उपेन्द्र कुशवाहा के सम्बंध में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि उपेन्द्र कुशवाहा ने अपने राजनीतिक जीवन में नौ बार पाला बदला है और उनका अब कोई राजनीतिक अस्तित्व नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने लगातार पिछड़ा एवं अतिपिछड़ा विरोधी काम किया हैस जातीय जनगणना, नगर निकाय के चुनावों में अतिपिछड़ा आरक्षण और अब छात्रवृति पर उसने जो रवैया अपनाया है, उससे भाजपा का चेहरा पूरी तरह बेनकाब हो चुका है। प्रेस कांफ्रेंस में पूर्व विधानपार्षद प्रदेश उपाध्यक्ष सतीश कुमार सिंह, प्रदेश प्रवक्ता अंजुम आरा, बिरेन्द्र सिंह डांगी, शिवशंकर निषाद, पटना महानगर अध्यक्ष आसिफ कमाल उपस्थित थे।

दो मॉडल : तेजस्वी और अखिलेश की राहें हुईं जुदा

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420