बहुत कुछ कहती है बिहार कांग्रेस की यह नई तस्वीर

बहुत कुछ कहती है बिहार कांग्रेस की यह नई तस्वीर

यह तस्वीर बिहार कांग्रेस की है। सीतामढ़ी शहर से दूर गांव के गरीबों के बीच इस तरह बैठक करके उन्हें जोड़ना और उनसे जुड़ना बहुत कुछ बता रहा है।

कुमार अनिल

बिहार के गांव में इस तरह लोगों के बीच जाकर अपनी बात कहना तथा लोगों की सुनना बताता है कि कांग्रेस किस तरह ऊपर से नीचे तक कठिन संघर्ष कर रही है। दिल्ली में सोनिया गांधी से ईडी पूछताछ कर रही है। कांग्रेसजन केंद्रीय संस्थाओं का इस्तेमाल विपक्ष को दबाने के लिए करने के खिलाफ संघर्ष कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस का एक दूसरा चेहरा सीतामढ़ी में दिखा, जहां युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष शम्स शाहनवाज गरीबों के बीच कांग्रेस की बातें पहुंचा रहे हैं।तस्वीर जिले के बेलसंड अनुमंडल के सरखौली गांव की है।

युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गुंजन पटेल ने कहा कि गांव के गरीबों के बीच जाने, उनकी बात सुनने और कांग्रेस के संदेश को पहुंचाने के लिए सीतामढ़ी इकाई की पहल सराहनीय है। सबसे बड़ी बात यह है कि गांव से जुड़ने का यह कार्यक्रम जिला इकाई की स्वतंत्र पहल है।

बिहार में 20-25 साल पहले तक ऐसी बैठकें आम थीं। वामपंथी दल ही नहीं, समाजवादी धारा के दल भी गांव में बैठक करते थे। उसके पहले तो राजनीति की यह पहली और बुनियादी पाठशाला थी। लेकिन धीरे-धीरे यह राजनीतिक संस्कृति समाप्त होती गई। इसकी जगह इवेंट मैनेजमेंट ने ले ली। कोई भी बैठक अब इवेंट की तरह होती है, जिसमें मंच, बैनर, होर्डिंग, कुर्सियां का इंतजाम। मीडिया को मैनेज करना। सब मिला कर लाखों का खर्च। राजनीति में साधारण कार्यकर्ता की जगह इवेंट मैनेजमेंट करनेवाली कंपनियों और व्यवसाइयों ने ले ली। इस तरह यह तस्वीर एक सुखद अनुभूति देती है कि बिना कोई तामझाम और हजारों-लाखों के खर्चे के बगैर भी राजनीतिक अभियान चल सकते हैं।

युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.वी. श्रीनिवास ने संगठन में निश्चित ही नया जोश भरा है। युवा कांग्रेस एक तरफ राष्ट्रीय मुद्दों पर सक्रिय दिखती है, तो दूसरी तरफ जनता के मुद्दों पर भी मुखर नजर आती है। बिहार युवा कांग्रेस ने जुलाई में हाजीपुर, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी और दरभंगा में फौज बचाओ-देश बचाओ नारे के साथ अग्निपथ योजना वापस लेने की मांग पर प्रदर्शन किए हैं। अब महंगाई-बेरोजगारी और आम जन के सवाल पर सीतामढ़ी में चौपाल लगाना अच्छी पहल मानी जाएगी।

मंत्री की बेटी ने मृतक के नाम पर लिया बार लाइसेंस, विपक्ष ने घेरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*