BHU गैंगरेप पर नया हंगामा : पुलिस ने पूछताछ के बाद छोड़ दिया था

BHU गैंगरेप पर नया हंगामा : पुलिस ने पूछताछ के बाद छोड़ दिया था

BHU गैंगरेप पर नया हंगामा : पुलिस ने पूछताछ के बाद छोड़ दिया था। तीनों आरोपियों की पहचान 3 दिन में ही हो गई थी। द रेड माइक की खबर से हंगामा।

BHU गैंगरेप पर नई जानकारी आ रही है। सभी आरोपियों के पहचान तीन दिन के भीतर ही हो गई थी। घटना के बाद पुलिस ने इसे छेड़छाड़ का मामला माना था। वह तो पीड़िता ने हिम्मत दिखाई और मजिस्ट्रेट के सामने बयान दिया, तब उसके बाद दुष्कर्म की धाराएं लागू की गईं। पीड़िता ने तीन दिन के बाद ही सभी आरोपियों की पहचान कर ली थी। पुलिस ने भी इनकी शिनाख्त कर ली थी। सबसे बड़ी बात यह कि पुलिस ने इनसे पूछताछ भी की, लेकिन पूछताछ के बाद छोड़ दिया। इसके बाद ये मध्य प्रदेश में भाजपा का चुनाव प्रचार कर रहे थे। ये तीनों आरोपी पुलिस पदाधिकारी के संपर्क में थे। द रेड माइक के सौरभ शुक्ला के यूट्यूब चैनल पर यह खबर है।

मालूम हो कि तीनों आरोपी भाजपा के नेता हैं। इनके संपर्क भाजपा के बड़े-बड़े नेताओं के साथ थे। बनारस के सभी विधायकों के साथ ये बैठक करते थे। घटना के बाद भी उन्होंने भाजपा विधायकों के साथ बैठक की। इनकी तस्वीर प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित भाजपा के दर्जनों मंत्रियों नेताओं के साथ हैं। सवाल उठ रहा है कि 60 दिनों तक इन्हें कौन बचा रहा था। जब पुलिस के सर्विलांस पर ये थे, तब इनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं हो रही थी।

इधर उत्तर प्रदेश में कांग्रेस तथा समाजवादी पार्टी ने इसे बड़ा मुद्दा बना दिया है। भाजपा के नेता और गोदी मीडिया इस मामले पर चुप हैं। उनकी कोशिश है कि किसी नए मुद्दे को उछाल कर इस मुद्दे से ध्यान भटकाया जाए। लेकिन इसमें गोदी मीडिया सफल नहीं हो पा रहा है। इस बीच इस नई जानकारी से भाजपा और भी बुरी तरह फंस गई है। पुलिस भी जो छोटे-छोटे चोर पकड़े जाने पर प्रेस वार्ता करके अपनी वाहवाही खुद करती है, इतने बड़े मामले पर आज तक एक भी प्रेस वार्ता नहीं की है। इस तरह भाजपा के साथ ही पुलिस के रुख पर भी सवाल उठ रहे हैं।

आखिर सुशील मोदी ने मान लिया तेजस्वी जल्द बनेंगे मुख्यमंत्री