छौड़ादानो : पीएम आवास में फर्जीवाड़ा, ट्रैक्टर मालिक को भी दिया

छौड़ादानो : पीएम आवास में फर्जीवाड़ा, ट्रैक्टर मालिक को भी दिया

छौड़ादानो में पीएम आवास योजना में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। मानवाधिकार कार्यकर्ता ने दिया प्रमाण। ट्रैक्टर, पक्का मकान मालिक को भी दिया जा रहा लाभ।

नेक मोहम्मद

पूर्वी चंपारण के छौड़ादानो प्रखंड की दरपा पंचायत में प्रधानमंत्री आवास योजना में भारी फर्जीवाड़ा उजागर हुआ है। सरकारी कर्मचारी, पक्का मकान, चार पहिया वाहन, जमीन जायदाद, ट्रैक्टर वाले को भी आवास दिया गया। गरीब गुरबा को इस लाभ से वंचित कर दिया गया। इस फर्जीवाड़े के विरोध अंतर्राष्ट्रीय मानवता अधिकार एवं मीडिया संगठन के छौड़ादानो प्रखंड अध्यक्ष रियाज अहमद अंसारी ने मुख्यमंत्री कार्यालय को को लिखित आवेदन दिया है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने गंभीरता पूर्वक वाद संख्या 50 21 18 0270 83 10577 दर्ज कर जिला कार्यालय मोतिहारी को दिनांक 21-8- 2021 को भेज दिया।

जिला कार्यालय मोतिहारी ने अनुमंडल लोक शिकायत निवारण कार्यालय रक्सौल को दिनांक 27-8-2021को भेज दिया जिसकी सुनवाई लोक शिकायत निवारण अधिकारी सतीश रंजन ने 29-12-2021 को बंद कर दिया। इसकी जानकारी अंतर्राष्ट्रीय मानवता अधिकार एवं मीडिया संगठन के प्रखंड अध्यक्ष छौड़ादानो रियाज अहमद अंसारी को मिली। पता चला कि प्रखंड विकास पदाधिकारी छौड़ादानो एवं लोक शिकायत निवारण अधिकारी रक्सौल के मिलीभगत से निष्पादन कर दिया गया। प्रखंड विकास पदाधिकारी का जांच रिपोर्ट पत्रांक 10 दिनांक 6-1-2021को प्रतिवेदित किया कि परिवादी लिखित आवेदन दिया है कि किसी प्रकार का फर्जीवाड़ा नहीं किया गया है तथा जांच से संतुष्ट हैं। जो बिल्कुल गलत है।

दिनांक 6-1-2021 को मुख्यमंत्री कार्यालय को फौजी वाले के विरुद्ध आवेदन दिया गया है। इस मजबूरी में प्रखंड विकास पदाधिकारी के द्वारा 6 माह पहले ही दिनांक 6-1-2021 को जांच रिपोर्ट तैयार कर भेज दिया गया या तो सोचनीय विषय है। प्रखंड विकास पदाधिकारी ने जांच कर लिया तथा प्रतिवादी की जगह फर्जी व्यक्ति को प्रतिवादी बनाकर तथा नाम पता बदल कर भेज दिया गया। इस फर्जीवाड़े के विरोध में अंतर्राष्ट्रीय मानवता अधिकार एवं मीडिया संगठन के प्रखंड अध्यक्ष अंसारी ने दिनांक 7-2-2022 को प्रथम अपील जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी को अपील दायर किया जिसमें सुनवाई के लिए दिनांक 23-2-2022 को समय मिला। सुनवाई के दिन भी अंसारी ने उपस्थित होकर जिला लोक शिकायत अधिकारी को बताया कि उन्होंने किसी प्रकार का लिखित नहीं दिया है। नाम तथा पता बदलकर किसी फर्जी व्यक्ति को प्रतिवादी बनाकर लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी रक्सौल ने वाद का निष्पादन कर दिया। एक ही सुनवाई में जिला लोक शिकायत में आदेश किए कि इस वाद की सुनवाई फिर से की जाए। 4 मार्च 2022 को रक्सौल को भेज दिए जिसकी सुनवाई दोबारा एकपक्षीय की जा रही थी।

अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार के प्रखंड से लेकर जिला अध्यक्ष पूरी टीम के साथ अनुमंडल लोक शिकायत निवारण अधिकारी सतीश रंजन के कार्यालय में दिनांक 22-6–2022 को उपस्थित होकर अपना विरोध जताया तथा लिखित मांग किया कि किस परिस्थिति में परिवादी की जगह दूसरे व्यक्ति को परिवादी बनाया गया है तथा परिवादी का नाम और पता क्यों बदल दिया गया। इसका कोई जवाब अभी तक नहीं मिला। अभी तक इस फर्जीवाड़े में कोई कानूनी कार्रवाई नहीं हुई है। प्रखंड विकास पदाधिकारी छौड़ादानो नीरज सिंह का कहना है कि दरपा पंचायत में हमने जांच कराई। अभी तक जांच रिपोर्ट नहीं आई है। लोक शिकायत निवारण अधिकारी रक्सौल सतीश रंजन का बयान है कि उस का सुनवाई हुआ है डेट पड़ा है। सुनवाई का डेट दिनांक 29-6-2022 को है।

तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*