धर्म संसद में खुलेआम जनसंहार की धमकी, न FIR न UAPA

धर्म संसद में खुलेआम जनसंहार की धमकी, न FIR न UAPA

ज्यादा बच्चे पैदा करो और अच्छे हथियार जमा करो-खुलेआम धर्म संसद के नाम पर ‘दूसरों’ का जनसंहार करने की धमकी दी गई। इस पर न FIR न UAPA ।

प्रधानमंत्री मोदी पर जोक मारने पर गिरफ्तारी हो सकती है, लेकिन खुलेआम मुस्लिमों को मारने, मारने के लिए शपथ लेने, गोडसे बनने के भाषण के 24 घंटे बाद भी न कोई एफआईआर हुई, न गिरफ्तारी और न ही यूएपीए धारा लगाई गई। हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए दूसरे धर्म के लोगों को मारने की खुलेआम बात होती रही। ऐसे दो इवेंट के कई वीडियो कल से सोशल मीडिया पर वायरल हैं। इनमें एक आयोजन दिल्ली में, दूसरा हरिद्वार में हुआ। आल्ट न्यूज के पत्रकार मो. जुबैर ने कई वीडियो शेयर किए हैं। एक वीडियो आप भी देखिए-

इस वीडियो में यती नरसिंहानंद सरस्वती खुलेआम दूसरे धर्म के लोगों का जनसंहार करने की बात कर रहे हैं। जुबैर ने जो दूसरे वीडियो शेयर किए हैं, उनमें यह कहते देखा जा सकता है कि मोबाइल पांच हजार रुपए का ही लो, पर हथियार एक लाख रुपए का खरीदो। घर में तलवार जरूर रखो।

पत्रकार राना अयूब ने अमेरिकी राष्ट्रपति को टैग करते हुए ट्वीट किया- राष्ट्रपति बाइडन, आपने लोकतंत्र पर सम्मेलन किया, जिसमें प्रधानमंत्री मोदी भी शामिल हुए। तब प्रधानमंत्री मोदी ने भारत के बहुधार्मिक चरित्र की सराहना की थी। अब यह वीडियो देखिए।

इन सम्मेलनों में सुदर्शन न्यूज के संपादक सहति कई भाजपा नेता भी शामिल हुए। लेखक अशोक कुमार पांडेय ने लिखा-कल हरिद्वार से आए वीडियोज़ के बाद भी किसी विपक्षी दल ने कोई FIR क्यों नहीं दर्ज कराया है? वैसे तो कोर्ट को स्वतः संज्ञान लेना था लेकिन वह नहीं हुआ तो विपक्ष कम से कम इस पर मामला तो दर्ज करा सकता है। इसे नज़रअन्दाज़ करना तो एकदम ठीक नहीं है।

एके त्रिपाठी ने लिखा-आरएसएस देश को अराजकता में धकेलना चाहता है, ताकि देश पर इसकी पकड़ बनी रहे। ये आरएसएस या उसके लोग भूल रहे कि आग लगेगी तो सब कुछ तबाह हो जायेगा जैसा अफगानिस्तान, सीरिया जैसे देशों में हुआ। धर्म की आग बरबाद ही करती है।

एक आदिवासी लड़की का वीडियो क्यों हो रहा वायरल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*