एक दिन में चुने गए JDU के 500 प्रखंड अध्यक्ष, 17 को फिर चुनाव

एक दिन में चुने गए JDU के 500 प्रखंड अध्यक्ष, 17 को फिर चुनाव

JDU का सांगठनिक चुनाव 500 प्रखंडों में संपन्न हो गया। 17 नवंबर को 150 अन्य सांगठनिक प्रखंडों के अध्यक्ष का चुनाव होगा। कहीं से हंगामे की खबर नहीं।

जनता दल यूनाईटेड के राज्य निर्वाचन पदाधिकारी जनार्दन प्रसाद सिंह ने बताया कि बुधवार को प्रदेश के पाँच सौ सांगठनिक प्रखंडों में संगठन का चुनाव संपन्न हो गया। सभी जगहों पर संगठन का चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से सौहार्दपूर्ण वातावरण में हुआ। इस दौरान हजारों कार्यकर्ताओं ने पूरे उत्साह के साथ चुनाव की प्रक्रिया में भाग लिया। जदयू कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार अधिकतर प्रखंडों में सर्वसम्मति से चुनाव संपन्न हुआ। कुछ प्रखंडों में मतदान भी कराया गया। मतदान वाले प्रखंडों में भी शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव संपन्न हो गया।

जनार्दन सिंह ने बताया कि शेष 115 सांगठनिक प्रखंडों में गुरुवार 17 नवंबर को चुनाव कराया जाएगा। राज्य निर्वाचन पदाधिकारी ने संगठनात्मक चुनाव संपन्न कराने में सभी पाँच सौ प्रखंडों के कार्यकर्ताओं, प्रखण्ड निर्वाचन पदाधिकारी एवं पर्यवेक्षकों को धन्यवाद दिया है।

प्रखंड अध्यक्ष का चुनाव हो जाने के बाद अब प्रखंड अध्यक्ष प्रखंड कमेटी का गठन करेंगे। अमूमन 31 सदस्यों तक की कमेटी बनाई जाती है। इसमें प्रखंड महासचिव सथा अन्य पदाधिकारी भी होते हैं।

इस बीच जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने पर्व-त्योहार के बावजूद सदस्यता अभियान पूरा करने के लिए सभी कार्यकर्ताओं को धन्यवाद दिया। उन्होंने पर्व-त्योहारों में व्यस्तता और अल्पावधि के बावजूद पार्टी के सदस्यता अभियान को पूर्ण सफल बनाने के लिए पार्टी के सभी जुझारू और कर्मठ साथियों का हृदयतल से अभिनंदन किया है। उन्होंने कहा कि आप सभी समर्पित और निष्ठावान साथी ही आदरणीय नेता नीतीश कुमार जी की शक्ति और संबल हैं।

प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने पार्टी एवं सर्वमान्य नेता नीतीश कुमार की नीतियों व सिद्धांतों में आस्था -विश्वास रख बड़ी संख्या में प्राथमिक तथा क्रियाशील सदस्य बनने वाले सभी लोगों को ह्रदय की गहराई से बधाई दी है। उन्होंने कहा कि पार्टी के सभी साथियों ने त्यौहारों की व्यस्तता के बीच कम समय में सदस्यता अभियान को अभूतपूर्व सफल बनाते हुए लक्ष्य को पार किया। इसके लिए सभी कार्यकर्ताओं को उनकी कर्मठता, प्रतिबद्धता, समर्पण एवं जोश के लिए बहुत-बहुत आभार।

कुढ़नी : VIP के भूमिहार, MIM के मुस्लिम, किसे लाभ किसे नुकसान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*