जब मां-बेटी मर रही थीं, तब DM डांस कर रही थीं, वीडियो वायरल

जब मां-बेटी मर रही थीं, तब DM डांस कर रही थीं, वीडियो वायरल

कानपुर में पुलिस की असंवेदनशीलता। अतिक्रमण हटाने के नाम पर बुलडोजर पहुंचा, तो मां-बेटी ने खुद को आग लगाई। तब DM डांस कर रही थीं, वीडियो वायरल।

इसी व्यक्ति के घर पर चला बुलडोजर। पत्नी और बेटी की मौत।

कानपुर की एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। अतिक्रमण हटाने के नाम पर पुलिस बुलडोजर लेकर पहुंची। मां-बेटी ने खुद को कमरे में बंद कर आग लगा ली, इसके बावजूद बुलडोजर चला। इस बीच सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल है, जिसमें डीएम मजे में डांस कर रही हैं।

कानपुर की घटना की चौतरफा निंदा हो रही है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इसे ब्राह्मणों पर हमला बताया है। कहा- योगी जी, आपके जल्लाद और बेरहम तथा अमानवीय प्रशासन द्वारा की गई ये हत्या है। योगी सरकार में लगातार ब्राह्मण परिवार निशाना बनाए जा रहे। लगातार चुन चुन कर ब्राह्मणों के साथ घटनाएं घटित हो रहीं। दलित पिछड़ा के साथ ब्राह्मण भी भाजपा शासित योगी सरकार के अत्याचार का निशाना बन रहे।

इस बीच कानपुर की डीएम नेहा जैन का वीडियो वायरल है। दैनिक भास्कर के पत्रकार राजेश साहू ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा-कानपुर में अवैध निर्माण हटाने पहुंची प्रशासन के सामने मां-बेटी ने खुद को कमरे में बंदकर झोपड़ी में आग लगा ली। प्रशासन ने अंवेदनशीलता दिखाते हुए बुलडोजर से झोपड़ी को गिरा दिया। दोनों की मौके पर मौत हो गई। जब मौत हुई तब डीएम नेहा जैन मैडम डांस कर रही थी। ये उसी का वीडियो है।

वायु सेना की पूर्व अधिकारी अनूमा आचार्य ने लिखा-निर्मला सीतारमन, स्मृति ईरानी, मीनाक्षी लेखी! अरे कोई है? है कोई माँ-बेटी की मौत पर पसीजने और आवाज़ उठाने वाला! 11-12 महिला केन्द्रीय मंत्रियों में से कोई भी नहीं? महिला आयोग की अध्यक्ष भी नहीं? शर्म शर्म शर्म। सोशल मीडिया में गरीब ब्राह्मण परिवार पर बुलडोजर चलाने और मां-बेटी की मौत का चौतरफा विरोध हो रहा है। विरोध करने वालों में वे लोग भी शामिल हैं, जो मुस्लिमों पर बुलडोजर चलाने की वाहवाही कर रहे थे।

सोशल मीडिया पर #कानपुर_देहात ट्रेंड कर रहा है। इस हैशटैग के साथ हर वर्ग के लोग योगी सरकार तथा यूपी पुलिस से सवाल कर रहे हैं। भाजपा समर्थक इसे योगी सरकार की गलती नहीं, बल्कि एक अधिकारी की गलती बता रहे हैं।

पहले BBC की डॉक्यूमेंटरी पर रोक, अब दफ्तर पर IT का छापा