चरण सिंह को भारत रत्न, RJD के जयंत चौधरी अब चले BJP संग

चरण सिंह को भारत रत्न, RJD के जयंत चौधरी अब चले BJP संग

चरण सिंह को भारत रत्न, RJD के जयंत चौधरी अब चले BJP संग। 15 दिनों में पांच को मिला भारत रत्न। उत्तर प्रदेश में इंडिया गठबंधन हुआ कमजोर।

लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने शुक्रवार को किसान नेता चौधरी चरण सिंह, पूर्व प्रधानमंत्री पी.वी नरसिम्हा राव तथा हरित क्रांति के जनक स्वामी एमएस स्वामीनाथन को भारत रत्न देने की घोषणा की। इसी के साथ चरण सिंह के पोते तथा राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष जयंत चौधरी का एनडीए में शामिल होना तय हो गया है। आज खुद जयंत चौधरी ने भाजपा के साथ जाने का रुख स्पष्ट कर दिया। अब सिर्फ औपचारिक घोषणा बाकी है। केंद्र सरकार ने 15 दिनों में पांच भारत रत्न दिए हैं। इससे पहले पिछले महीने कर्पूरी ठाकुर तथा बाद में लाल कृष्ण आडवाणी को भारत रत्न दिया गया।

जैसे ही प्रधानमंत्री मोदी ने चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देने की घोषणा की, उसके तरत बाद जयंत चौधरी ने प्रधानमंत्री के ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा-दिल जीत लिया। थोड़ी देर पहले उन्होंने यह भी कहा कि अब मना करने को बचता ही नहीं। मतलब स्पष्ट है वे वे भाजपा के साथ जा रहे हैं। पहले से ही अनुमान लगाया जा रहा था कि वे भाजपा के साथ जाएंगे। भाजपा उन्हें पांच सीटें दे रही है, यह भी खबर थी। अखिलेश यादव द्वारा सीट बंटवारे से वे संतुष्ट नहीं थे। इसी के साथ यूपी में इंडिया गठबंधन को बड़ा झटका लगा है।

अब उत्तर प्रदेश में केवल सपा और कांग्रेस ही दो दल रह गए हैं। अब अखिलेश यादव जितनी सीट चाहें, उतनी सीट पर लड़ सकते हैं। कांग्रेस भी अब चाहे तो एक-दो सीट अधिक पर लड़ सकती है। लेकिन उत्तर प्रदेश में इंडिया गठबंधन कमजोर हुआ और भाजपा की स्थिति मजबूत हुई है, इसे इनकार नहीं किया जा सकता।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिन तीन लोगों को भारत रत्न देने की घोषणा की, उनमें दो दक्षिण भारत के हैं। याद रहे दक्षिण भारत में भाजपा कमजोर है और प्रधानमंत्री लगातार तमिलनाडु सहित दक्षिण के प्रदेशों में दौरा कर रहे हैं। तीन में दो के दक्षिण भारत से होने को भी भाजपा के दक्षिण में विस्तार की योजना से ही जोड़ कर देखा जा रहा है।

मालूम हो कि अब तक 53 नागरिकों को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न दिया जा चुका है, जिनमें पांच भारत रत्न तो सिर्फ 15 दिनों में दिए गए हैं।

पहली बार टूट के खतरे से डरी भाजपा, विधायकों को शिफ्ट करने की तैयारी