लालू को राहत, रिजेक्ट नहीं हुई बेल, अक्टूबर में अगली सुनवाई

लालू को राहत, रिजेक्ट नहीं हुई बेल, अक्टूबर में अगली सुनवाई। सीबीआई ने की थी राजद अध्यक्ष की जमानत खारिज करने की अपील। अजीब तर्क दिया।

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। सीबीआई ने उनकी जमानत रद्द करने की अपील की थी। सीबीआई ने कोर्ट में दलील दी कि लालू प्रसाद बैडमिंटन खेल रहे हैं, वे पूरी तरह फिट हैं, इसलिए उनकी जमानत रद्द की जाए। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की दलील को स्वीकार नहीं किया और तत्काल जमानत रद्द करने से इनकार कर दिया।

सीबीआई का तर्क अजीब था। लालू प्रसाद ने बैडमिंटन रैकेट हाथ में पकड़ा और फोटो खिंचवाया। दो-चार मिनट में ही बैडमिंटन कोर्ट से बाहर आ गए। इसी को सीबीआई ने अपनी दलील बना दिया, जैसे लालू प्रसाद घंटा भर बैडमिंटन खेल रहे थे, कभी आगे-कभी पीछे दौड़ रहे थे। अभी उनकी सेहत ऐसी नहीं। शायद इसीलिए सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की दलील नहीं मानी।

सुप्रीम कोर्ट की दो सदस्यों वाले पीठ ने जिसमें जस्टिस ए.एस. बोपना और एम.एम. सुंदरेश शामिल थे, ने थोड़ी देर ही सुनवाई के बाद सीबीआई की दलील को अस्वीकार कर दिया। लालू प्रसाद के अधिवक्ता कपिल सिबब्बल ने कहा कि लालू प्रसाद का किडनी ट्रांसप्लांट हुआ है और वे धीरे-धीरे स्वस्थ हो कहे हैं। अभी भी उनका स्वास्थ्य पूरी तरह ठीक नहीं है। इसके बाद सीबीआई की तरफ से कहा गया कि लालू प्रसाद बैडमिंटन खेल रहे हैं। संक्षिप्त सुनवाई को बाद सुप्रीम कोर्ट ने अक्टूबर तक के लिए सुनवाई टाल दी। अगली सुनवाई 17 अक्टूबर को होगी।

सुप्रीम कोर्ट से लालू प्रसाद को राहत मिलने पर राजद नेताओं ने संतोष जताया है। इसी के साथ यह आशंका समाप्त हो गई कि उन्हें जेल जाना पड़ेगा और वे मुंबई में होनेवाली विपक्षी दलों की बैठक में हिस्सा नहीं ले पाएंगे। सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलने के बाद अब लालू प्रसाद इंडिया गठबंधन की बैठक में शामिल होंगे, यह तय है।

AISA का आरोप, कॉलेज प्रिंसिपल ने हिंदू राष्ट्र का लगाया नारा

By Editor