Pegasus पर एनडीए दो-फाड़, नीतीश ने कहा, जांच जरूरी

Pegasus पर एनडीए दो-फाड़, नीतीश ने कहा, जांच जरूरी

गजब हो गया। पेगासस जासूसी मामले पर एनडीए दो-फाड़। प्रधानमंत्री मोदी और पूरी भाजपा जांच के खिलाफ है। संसद नहीं चल रही है। अब नीतीश ने जांच की मांग कर दी।

आज प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ा झटका दिया। नीतीश आज कांग्रेस और राजद सहित विपक्ष की मांग के साथ खड़े हो गए। उन्होंने कहा कि पेगासस जासूसी मामले की जांच होनी चाहिए। नीतीश कुमार एनडीए के पहले नेता हैं, जिन्होंने पेगासस मामले में भाजपा के खिलाफ स्टैंड लिया है। जदयू एनडीए में भाजपा के बाद दूसरा सबसे बड़ा दल है। नीतीश के इस बयान के बाद भाजपा खेमे में सांप सूंघ गया है। कोई कुछ बोल ही नहीं रहा।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि जांच जरूर होनी चाहिए। इतने दिनों से मामला उठ रहा है। अब तक जांच शुरू हो जानी चाहिए। आजकल जानते नहीं हैं, कई तरह से कौन क्या कर लेगा ( कौन किस तरह से फोन के जरिये जासूसी कर लेगा) पता नहीं।

हाल में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के चार बड़े कदम भाजपा के खिलाफ रहे हैं। पहला, नीतीश ने भाजपा की उस मांग को खारिज कर दिया, जिसमें भाजपा नेता यूपी की तरह जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की मांग कर रहे थे। दूसरा, मुख्यमंत्री जातीय जनगणना के सवाल पर भी भाजपा से अलग राजद के स्टैंड के साथ नजर आए। उन्होंने जातीय जनगणना की मांग उठा दी है। तीसरा, भाजपा की इच्छा के विपरीत जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर किसी सवर्ण को बैठाया। अबतक भाजपा सवर्णों पर अपना एकाधिकार समझती रही है। और अब चौथा, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजनीतिक धमाका ही कर दिया।

पूरे मोदी शासन में पोगासस जासूसी ऐसा मामला है, जिस पर पहली बार सरकार चाहकर भी अपनी बात स्थापित नहीं कर पा रही है। पेगासस जासूसी की फ्रांस सरकार ने अपनी एजेंसी से जांच कराई और पाया कि फोन की पेगासस से जासूसी हुई है। फ्रांस ने विस्तृत जांच के आदेश दे दिए हैं। हंगरी भी जांच कर रहा है। भारत में मोदी सरकार जांच से अबतक इनकार कर रही है।

बीमारी से उबरते ही फॉर्म में लालू, मुलायम से धमाकेदार मुलाकात

अब संसद में जदयू सांसद क्या करेंगे?

अबतक पेगासस जासूसी को मनगढ़ंत बता रहा एनडीए संसद में खंड-खंड हो जाएगा। संसद में भाजपा सांसद पेगासस जांच की मांग करेंगे, तब वह दृश्य भाजपा के लिए मुश्किल भरा होगा। जदयू के संसद में पेगासस जासूसी की जांच की मांग से एनडीए बिखर गया है और विपक्ष की आवाज अब मजबूत हो गई है।

थैंक्यू मोदी जी नहीं, थैंक्यू पटनायक जी क्यों बोल रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*