PK को जेपी आंदोलन के नेताओं ने दिया समाज वैज्ञानिक का दर्जा

PK को जेपी आंदोलन के नेताओं ने दिया समाज वैज्ञानिक का दर्जा

जन सुराज के संस्थापक प्रशांत किशोर को 1974 के आंदोलनकारियों का साथ मिल गया है। छपरा में जेपी सेनानी कृष्ण कुमार जी ने PK को समाज वैज्ञानिक का नाम दिया।

कुमार अनिल

जन सुराज के संस्थापक प्रशांत किशोर को नई ताकत मिली है। उन्हें 1974 आंदोलन के नेताओं का साथ मिला है। छपरा में जेपी सेनानी कृष्ण कुमार ने प्रशांत किशोर के प्रयास का समर्थन करते हुए उन्हें समाज वैज्ञानिक की संज्ञा दी। कहा, वैज्ञानिक समाज को उन्नत करने के लिए शोध करता है। प्रशांत किशोर बिहार में नई राजनीति की धारा बहाने के लिए शोध और प्रयास दोनों कर रहे हैं। प्रशांत किशोर को जेपी सेनानियों का समर्थन मिलना विशोष बात है। आज भी ऐसे जेपी सेनानी हैं, जो नया बिहार बनाने के अधूरे सपने के साथ जी रहे हैं। ऐसे कार्यकर्ताओं में पीके ने नई उम्मीद जगा दी है, जिसे कृष्ण कुमार के शब्दों में महसूस किया जा सकता है। बुजुर्ग जेपी सेनानी कृष्ण कुमार ने कहा कि समाज हाथ पर हाथ धर कर बैठ जाएगा, तो समाज बदलेगा कैसे?

इस अवसर पर प्रशांत किशोर ने कहा कि वे समाज के अच्छे लोगों को आगे लाना चाहते हैं। उनका हाथ पकड़ कर आगे बढ़ाना चाहते हैं। उन्हें ताकत देना चाहते हैं। ऐसे लोगों की एकजुटता से ही समाज बदलेगा। जन सुराज के फेसबुक पेज पर इसका वीडियो भी है, जिसे 10 हजार लोगों ने अब तक देखा लिया है।

प्रशांत किशोर हर वर्ग के लोगों से मिल रहे हैं। आज उन्होंने पूर्व सैनिक अधिकारी से मुलाकात की। छपरा में वायुसेना के पूर्व अधिकारी अमित प्रियदर्शी ने प्रशांत किशोर को सुनने के लिए एक गोष्ठी आयोजित की, जिसमें सेना के पूर्व अधिकारियों के साथ अन्य लोग भी उपस्थित थे। यहां भी सभी ने उनके प्रयासों की सराहना की और साथ आगे चलने का संकल्प जताया। छपरा में ही उन्होंने रोटरी क्लब के सदस्यों से भी मुलाकात की और बिहार के नवनिर्माण पर चर्चा की।

जुबैर, तीस्ता के बाद अब मेधा पाटकर पर शिकंजा, हुई FIR

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*