‘संस्कारी ब्राह्मण हैं, तो रेप क्यों किया, उन्हें तो फांसी होनी चाहिए’

‘संस्कारी ब्राह्मण हैं, तो रेप क्यों किया, उन्हें तो फांसी होनी चाहिए’

दस साल पहले दिल्ली में निर्भया के साथ रेप, फिर हत्या को आप भूले नहीं होंगे। उसी निर्भया की मां ने बिलकिस गैंगरेप पर दो-टूक शब्दों में कहा- रेपिस्ट को फांसी मिले।

बिलकिस बानो गैंगरेप और उनके परिजनों की हत्या पर कांग्रेस और लेफ्ट को छोड़कर बड़े-बड़े कई नेताओं के मुंह पर ताला लगा है। इनमें वे नेता भी शामिल हैं, जो 2012 में निर्भया के दोषियों को फांसी देने की मांग कर रहे थे। वे रेप के सभी मामलों में रेप करनेवालों को फांसी का कानून बनाने की आवाज उठा रहे थे। बिलकिस के मामले में भले ही बहुत सारे लोग आज चुप हैं, लेकिन विरोध के स्वर धीरे-धीरे तेज हो रहे हैं। निर्भया की मां ने कहा कि कोई ब्राह्मण है, तो क्या हमारा संविधान उसे रेप करने की छूट देता है? उन्होंने बिलकिस के दोषियों को फांसी देने की मांग की।

निर्भया की मां ने मोजो स्टोरी से बात करते हुए कहा कि अगर वे संस्कारी ब्राह्मण हैं, तो उन्होंने रेप क्यों किया। क्या हमारा संविधान इजाजत देता है कि आप ब्राह्मण हैं, इसलिए दुष्कर्म कर सकते हैं। उन्होंने साफ कहा कि बिलकिस के साथ गैंगरेप करनेवालों को फांसी मिलनी चाहिए। हिंदी में है, आप भी सुनिए-

आज भी सोशल मीडिया पर बिलकिस बानो को न्याय दिलाने के लिए लोग अपनी आवाज उठा रहे हैं। हर वर्ग के लोग रेपिस्टों की सजा माफ करने की निंदा कर रहे हैं। वहीं शर्मनाक बात यह है कि कुछ लोग रेपिस्टों को छोड़े जाने का समर्तन भी कर रहे हैं। ये बीमार लोग हर बार दुष्कर्मी के पक्ष में खड़े होते हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा-गुजरात के बलात्कारियों पर ना लिखना पड़े, तो कुछ लोगों ने 4 दिन से ट्वीट करना ही बंद कर दिया! -ज़रा टटोलिए राष्ट्रवादियों के टाइमलाइन! पत्रकार अजीत अंजुम ने कहा-.#BilkisBano के गुनहगारों की रिहाई के आज छह दिन हो गए . कितने चैनल ने इस मुद्दे पर सरकार से सवाल पूछा है ? सिस्टम से सवाल पूछा है ? कितने चैनलों ने पूछा है कि रिहाई के लिए ऐसी कमेटी क्यों बनी जिसमें बीजेपी के पाँच सदस्य थे ? ‘संस्कारी ब्राह्रणों’ की रिहाई कैसे हुई ?

तेजस्वी के छह मंत्र : भूल जाइए 17 साल पहले की बात, यह RJD-2 है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*