शंकराचार्यों ने मंदिर इवेंट का निमंत्रण ठुकराया, मोदी की बोलती बंद

शंकराचार्यों ने मंदिर इवेंट का निमंत्रण ठुकराया, मोदी की बोलती बंद। हिंदुओं के सबसे स्मानित शंकराचार्यों ने कहा अधूरे मंदिर का उद्घाटन शास्त्र-विरुद्ध।

अयोध्या में राम मंदिर इंवेंट के उद्घाटन समारोह में चारों शंकराचार्य नहीं जाएंगे। उन्होंने बहुत गंभीर सवाल उठाए हैं। शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने कहा कि शंकराचार्यों का काम है शास्त्रों का पालन करना तथा कराना। अर्धनिर्मित मंदिर का उद्घाटन करना शास्त्र-विरुद्ध है। जब मंदिर पूरी तरह बना ही नहीं है, तो उद्घाटन में इतनी हड़बड़ी क्यों? जाहिर है भाजपा के लिए हिंदू शास्त्र और शंकराचार्यों का महत्व नहीं है, बल्कि वह राममंदिर को राजनीतिक स्वार्थ के लिए इस्तेमाल करना चाहती है।

राममंदिर ट्रस्ट के महासचिव ने शंकराचार्यों की आपत्ति के बाद यहां तक कह दिया कि यह मंदिर रामानंद संप्रदाय का है । इसलिए यहां शैव, शाक्त और संन्यासियों का कोई कार्य नहीं। इस बयान पर भी शंकराचार्य ने तीखे सवाल उठाए। कहा कि जब मंदिर बन रहा था तब कहा गया कि यह राष्ट्र मंदिर है। चंदा लेना था, तो सारे सनातनियों से चंदा लिया और अब कह रहे हैं कि मंदिर रामानंद संप्रदाय का है। अगर ऐसा है तो ट्रस्ट में चंपत राय क्या कर रहे हैं। मंदिर को रामानंद संप्रदाय को सौंप दें। इसके बाद कई लोगों ने कहा कि चंपत राय हिंदुओं में विभाजन पैदा कर रहे हैं।

पुरी के शंकराचार्य ने कहा कि मोदी जी वहां उद्घाटन करेंगे। हम वहां ताली बजाने जाएं क्या? उन्होंने भी अधूरे मंदिर के उद्घाटन पर सवाल उठाया है।

शंकराचार्यों ने जिस तरह राम मंदिर के उद्घाटन में जाने से मना कर दिया है, उससे भाजपा सकते में है। वह शंकराचार्यों का नाम तक नहीं ले रही। गोदी मीडिया ने भी शंकराचार्यों के विरोध पर खबरों से गायब कर दिया है। गोदी मीडिया लगातार कांग्रेस को घेर रहा है।

कांग्रेस ने राम मंदिर उद्घाटन पर तीन सवाल उठाए हैं। पहला कि आस्था व्यक्ति का निजी मामला है। कोई कब जाएगा, कब नहीं, मंदिर जाएगा या घर में पूजा करेगा यह उसका निजी मामला है। दूसरा कि भाजपा और संघ ने राम मंदिर को वर्षों से राजनीतिक परियोजना बना दिया है। राम मंदिर और धर्म का राजनीतीकरण कर रही है। और तीसरा कि अधूरे मंदिर का उद्घाटन क्यों।

स्मृति ईरानी पर भड़का जदयू, नहीं चाहिए हिंदू होने का सर्टिफिकेट

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420