तेजस्वी बोले भगवा उन्माद के जवाब में उनके इफ्तार का ये है महत्व

तेजस्वी बोले भगवा उन्माद के जवाब में उनके इफ्तार का ये है महत्व

अमेरिका-यूरोप के अखबारों में लगातार लिखनेवाली राना अयूब के एक सुझाव के जवाब में तेजस्वी यादव ने बताया भगवा उन्माद के दौर में उनके इफ्तार का ये है महत्व।

बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव से देश के प्रबुद्ध लोगों को कितनी उम्मीद है इसका उदाहरण देखने को मिला, जब अमेरिका और यूरोप की मीडिया में लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ लिखने और बोलने वाली राना अयूब ने तेजस्वी यादव से कहा कि देश में सांप्रदायिक उन्माद फैलाया जा रहा है। सड़क पर उतरिए।

राना अयूब ने लिखा कि तेजस्वी, पवित्र महीना रमजान में मुसलमानों के लिए सबसे जरूरी बात है सांप्रदायिक नफरत से सुरक्षा। हमारी मस्जिदों पर हमले हो रहे हैं, सबके सामने सांप्रदायिक गालियां दी जा रही हैं, निर्दोष मुसलमानों को फंसाया जा रहा है। यह समय सड़क पर उतरने का है, बुलंद आवाज में बोलने का है।

राना अयूब के जवाब में तेजस्वी यादव ने अंग्रेजी में लिखा, जिसका अर्थ है कि हम जो दावत-ए-इफ्तार आयोजित कर रहे हैं वह शांति, सौहार्द और समाज में भाईचारे के लिए है। जब भी हम ऐसा आयोजवन करते हैं, तो 20 हजार से ज्यादा लोग आते रहे हैं। इसे सभी धर्मों के बीच आपसी विश्वास कायम करने के प्रयास के रूप में देखा जाना चाहिए। हमारे कार्यकर्ताओं ने रामनवमी पर कलम-किताबें बांटीं। हम जरूर कामयाब होंगे। सचमुच जब एक साथ हजारों-मुस्लिम और हिंदू साथ बैठेंगे, एक दूसरे को शुभकामना देंगे, तो भाईचारा मजबूत होगा ही।

मालूम हो कि पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव एवं पूर्व मंत्री व विधायक तेजप्रताप यादव ने संयुक्त रूप से 22 अप्रैल को 10 सर्कुलर रोड, पूर्व मुख्यमंत्री के आवास पर दावत ए इफ्तार का आयोजन किया है और राज्य के रोज़ेदारों तथा राजद पदाधिकारियों को इफ्तार पर आमंत्रित किया है।

तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि कोविड के कारण दो वर्षों में इफ्तार पार्टी का आयोजन नहीं हो सका था। मगर इस वर्ष इफ्तार पार्टी का आयोजन पूरे एहतमाम के साथ किया जा रहा है। निमंत्रण कार्ड बांटे जा रहे हैं। उन्होंने कहा की मेरी खुदा से दुआ है कि खुदा आपकी इबादत, रोज़े को खुदा काबुल करें और इस मुबारक महीने की बरकत से हमसब के बीच विश्वाश और प्रेम का मजबूत रिश्ता कायम रहे।

ये बिना हाथवाले वसीम शेख हैं, आरोप है कि शोभायात्रा पर पत्थर फेंके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*