बजट में बिहार खाली हाथ फिर भी नीतीश ने किया स्वागत, राजद ने घेरा

बजट में बिहार खाली हाथ फिर भी नीतीश ने किया स्वागत, राजद ने घेरा

बजट में बिहार खाली हाथ फिर भी नीतीश ने किया स्वागत, राजद ने घेरा। केंद्रीय बजट पर भाजपा सांसद सुशील मोदी चुप। राजद ने कहा बिहार का जिक्र तक नहीं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पाला बदलते हुए कहा था कि वे बिहार के लिए काम करते हैं और करते रहेंगे। इधर गुरुवार को केंद्रीय बजट पेश हुआ। मुख्यमंत्री ने बजट का स्वागत किया, लेकिन यह जिक्र नहीं किया कि बजट में किस प्रकार बिहार का ध्यान रखा गया है। भाजपा सांसद सुशील मोदी ट्विटर पर सक्रिय रहते हैं, लेकिन बजट पेश होने पर उन्होंने खबर लिखे जाने तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। वहीं राजद ने बजट को खाली लिफाफा कहा। कहा कि बिहार में एनडीए की नई सरकार बनी है, उम्मीद थी कि बिहार को कुछ विशेष दिया जाएगा, लेकिन बजट में बिहार का जिक्र तक नहीं है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया-केंद्र सरकार द्वारा पेश अंतरिम बजट स्वागतयोग्य है। उच्च शिक्षा के लिए लोन की राशि बढ़ाई गई है, जिससे युवाओं को सहूलियत होगी। तीन नए रेलवे इकोनॉमिक कॉरिडोर की शुरूआत होने से देश का आर्थिक विकास तीव्र होगा। मध्यम वर्ग के लिए विशेष आवास योजना के तहत किराए के घरों एवं झुग्गी बस्तियों में रहने वाले लोगों को लाभ मिलेगा। साथ ही उद्योगों के विकास के लिए स्टार्ट अप के टैक्स स्लैब में 1 साल की छूट से औद्योगिक विकास को गति मिलेगी।

उधर राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि अंतरिम बजट के नाम पर खाली लिफाफे में डपोरशंखी वादे के साथ केवल चुनावी भाषण है। इसमें कुछ है ही नहीं। बिहार में जिस प्रकार एनडीए गठबंधन की सरकार बनी है तो उम्मीद थी कि उसकी झलक बजट में दिखाई देगी पर कुछ देने की बात छोड़िए पूरे बजट में बिहार की कहीं चर्चा ही नहीं है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार प्रधानमंत्री पिछले कुछ दिनों से किसान, गरीब, महिला और युवा की लगातार चर्चा कर रहे थे। उनके लिए इस बजट में कुछ है ही नहीं। मध्यम वर्ग को उम्मीद थी कि इनकम टैक्स स्लैब में राहत दी जाएगी उन्हें भी निराश होना पड़ा। हर साल के बजट की तरह ख्वाब दिखाने की परम्परा को आगे बढ़ाते हुए इस बार 2047 में विकसित भारत का ख्वाब दिखाया गया है।

नीतीश अब अतीत हैं, भविष्य तो तेजस्वी ही हैं : शिवानंद