कर्पूरी ठाकुर अब भारत रत्न, देशभर में जाति गणना की उठी मांग

कर्पूरी ठाकुर अब भारत रत्न, देशभर में जाति गणना की उठी मांग

कर्पूरी ठाकुर अब भारत रत्न, देशभर में जाति गणना की उठी मांग। बिहार में जाति गणना और हर गरीब को दो-दो लाख रुपए देने का असर।

केंद्र सरकार ने स्वतंत्रता सेनानी, समाजवादी नेता पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न से सम्मानित किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने अखबारों में आलेख लिखा है। ट्वीट भी किया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार कर्पूरी ठाकुर के बताए रास्ते पर चल रही है। इधर विपक्षी दलों ने कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न सम्मान देने का स्वागत करते हुए कहा कि अब मोदी सरकार देशभर में जाति गणना कराए। कई नेताओं ने देश में जाति आधारित पिछली गणना को सार्वजनिक करने की मांग की है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा पूर्व मुख्यमंत्री और महान समाजवादी नेता स्व॰ कर्पूरी ठाकुर जी को देश का सर्वोच्च सम्मान ‘भारत रत्न’ दिया जाना हार्दिक प्रसन्नता का विषय है। केंद्र सरकार का यह अच्छा निर्णय है। स्व॰ कर्पूरी ठाकुर जी को उनकी 100वीं जयंती पर दिया जाने वाला यह सर्वोच्च सम्मान दलितों, वंचितों और उपेक्षित तबकों के बीच सकारात्मक भाव पैदा करेगा। हम हमेशा से ही स्व॰ कर्पूरी ठाकुर जी को ‘भारत रत्न’ देने की मांग करते रहे हैं। वर्षों की पुरानी मांग आज पूरी हुई है। इसके लिए माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को धन्यवाद।

उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा मजबूत नेतृत्व, ईमानदार शख्सियत, सौम्य स्वभाव, संघर्षशील व्यक्तित्व, सबकी चिंता और दुर्बल-असहाय के लिए विशेष करुणा रखने वाले भारत रत्न जननायक स्व॰ कर्पूरी ठाकुर जी की शताब्दी जयंती पर कोटि कोटि नमन। जननायक कर्पूरी ठाकुर जी के सामाजिक न्याय हेतु दिखाए मार्ग पर ही आज वंचितों उपेक्षितों का उत्थान सुनिश्चित हो रहा है।

याद रहे बिहार सरकार ने जाति गणना कराई। उसके हर गरीब परिवार को दो-दो लाख रुपए देने का निर्णय लिया। आरक्षण को कोटा बढ़ाया। बिहार सरकार के जाति गणना के फैसलों को राहुल गांधी ने देशभर में उठाया। उन्होंने पिछड़ों की भागीदारी का सवाल उठाया। सरकार को चलाने वाले 90 आईएएस में सिर्फ तीन ओबीसी वर्ग के हैं। उन्होंने पिछड़ों की भागीदारी का सवाल उठाया।

कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिए जाने के बाद बिहार में राजनीति गरम हो गई है। उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि वे वर्षों से कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न सम्मान दिए जाने की मांग की थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी ऐसी मांग की थी। आज कर्पूरी ठाकुर की जन्मशती है। राजद और जदयू का पहले से कार्यक्रम है। राज्य में दोनों दलों ने महीनों कर्पूरी चर्चा और संवाद आयोजित किया।

कल तक बिहार में भाजपा राम को ही सबकुछ बता रही थी। आज वह भी कर्पूरी ठाकुर और पिछड़ों को सम्मान देने का दावा कर रही है। राजद प्रवक्ता मनोज झा ने कहा ये स्वागत योग्य कदम है। दो साल पहले @yadavtejashwi जी ने पुरजोर तरीके से इसकी मांग भी की थी…प्रधानमंत्री से आग्रह है कि हमने जातिगत जनगणना कराई, फिर आरक्षण का दायरा बढ़वाया। इसे 9वीं सूची में शामिल करें। वो सही श्रद्धांजलि होगी, नहीं तो भारत रत्न सांकेतिक लगेगा।