क्या तेजस्वी को सीएम बनाने पर सहमत हो गए नीतीश?

क्या तेजस्वी को सीएम बनाने पर सहमत हो गए नीतीश?

क्या तेजस्वी को सीएम बनाने पर सहमत हो गए नीतीश? नए साल में मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री की गुरुवार को पहली बार हुई मुलाकात।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की नए साल में गुरुवार को पहली बार मुलाकात हुई। नीतीश कुमार के जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने, उनके राष्ट्रीय राजनीति में उतरने तथा सबसे बढ़कर नीतीश कुमार के इंडिया गठबंधन का संयोजक बनने की संभावना के बीच इस मुलाकात का विशेष अर्थ माना जा रहा है। चर्चा है कि नीतीश कुमार पूरी तरह राष्ट्रीय राजनीति में उतरने को तैयार हैं और वे इसी महीने देश का दौरा शुरू कर सकते हैं। इस स्थिति में बिहार की बागडोर उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को सौंप सकते हैं। इस चर्चा के साथ ही राजनीतिक गलियारों में कयास और सक्रियता दोनों अचानक बढ़ गई।

याद रहे तेजस्वी यादव ने कल ही खुल कर कहा था कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार में इंडिया गठबंधन को नेतृत्व देने की पूरी क्षमता है। उनके इस बयान से जदयू में संतोष और खुशी देखी गई। दरअसल नीतीश कुमार को न सिर्फ प्रशासनिक अनुभव है, बल्कि गठबंधन की राजनीति की भी गहरी समझ है। किसे किस तरह जोड़ कर रखना है और लक्ष्य हासिल करना है, इस कार्य में उनका लंबा अऩुभव है। इसीलिए देश के विपक्षी नेताओं से उनके अच्छे संबंध है।

इधर तेजस्वी यादव के बारे में कहा जा रहा है कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया दौरा रद्द कर दिया। नीतीश कुमार राष्ट्रीय अध्यक्ष बने हैं। नीतीश कुमार और ललन सिंह के बीच भी बात हुई है। ललन सिंह के बारे में भी स्पष्ट है कि वे राजद के प्रति सहानुभूति का रुख रखते हैं। इसीलिए तेजस्वी यादव के मुख्यमंत्री बनने की संभावना पर चर्चा तेज हो गई है। उनकी आज नीतीश कुमार से मुलाकात को आगे की रणनीति से जोड़ कर देखा जा रहा है। अगर भाजपा को तीसरी बार केंद्र की सत्ता में आने से रोकना है, तो बड़े फैसले लेने होंगे और वह बड़ा फैसला हो सकता है कि नीतीश कुमार बिहार, झारखंड और खासकर यूपी में भाजपा को रोकने के लिए मैदान में उतरें तथा बिहार में तेजस्वी यादव सत्ता की बागडोर संभालते हुए भाजपा को प्रदेश में रोकें।

पंचायती राज मंत्री ने E-Office मैनेजमेंट का किया शुभारंभ