तेजस्वी ने दिखाई हिम्मत, ऐसा कहा कि देश भर में हो गया वायरल

तेजस्वी ने दिखाई हिम्मत, ऐसा कहा कि देश भर में हो गया वायरल

तेजस्वी ने दिखाई हिम्मत, ऐसा कहा कि देश भर में हो गया वायरल। अंधभक्ति के दौर में बुद्धि-विवेक की बात करने से भी लोग डरते हैं। तेजस्वी की लोग दे रहे दाद।

तेजस्वी यादव के बयान की लोद दाद दे रहे हैं। प्रमुख पत्रकारों और अन्य वर्ग के लोग उनकी सराहना कर रह हैं। दरअसल जब चारों तरफ अंधभक्ति का दौर हो, तो तर्क, बुद्धि और विवेक की बात करने से भी लोग कतराते हैं, क्योंकि तर्क करने से अंधभक्त नाराज हो सकते हैं। बुद्धिमानी की करने से वे नाराज हो सकते हैं। इस दौर में तेजस्वी यादव ने तर्क, बुद्धि और विवेक की बात की, इसीलिए लोग उनकी सराहना कर रहे हैं।

उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कल देर शाम एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि बताओ, बीमार पड़ने पर मंदिर जाओगे या अस्पताल। यह बहुत बड़ी बात उन्होंने कहा। आगे कहा कि हम युवकों को वौकरी दे रहे हैं। सवा लाख युवकों को नौकरी दी। फिर लाख से ज्यादा युवकों को ज्वाइनिंग लेटर देंगे। हम नौकरी दे रहे हैं, अस्पताल पर जोर दे रहे हैं। इससे भाजपा वालों को मिर्ची क्यों लग रही है।

वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने तेजस्वी यादव की सराहना करते हुए लिखा-कभी-कभी नेताओं की प्रशंसा करने में कोई हर्ज नहीं! आज सुबह मंदिर प्रकरण पर तेजस्वी यादव के भाषण का एक वीडियो सुन गया। उसमें विवेक, ज्ञान, सच और साहस है! आज के समाज में विवेक, सच और साहस लुप्त हो रहे हैं! इसलिए भाषण काबिले-तारीफ है! उर्मिलेश की तरह कई अन्य लोगों ने भी तेजस्वी यादव की सराहना की है। लोगों ने कहा भगवान राम क्या पहले नहीं थे। ये भाजपा वाले कह रहे हैं कि वे राम को ला रहे हैं। राम तो हजारों साल से यहां हैं।

कई लोगों ने कहा कि राम व्यक्तिगत आस्था हैं। भाजपा राम के नाम पर जनता के असली सवालों को दबा देना चाहती है। असली सवाल है कि रोजगार कितना मिल रहा है। स्वास्थ्य सुविधा कितनी मिल रही है। तेजस्वी यादव ने बिहार में पर्यटन उद्योग के विकास के लिए होटल मालिकों के साथ मीटिंग की और दूसरे प्रदेशों तथा विदेश से पर्यटकों को आकर्षित करने पर चर्चा की। इससे बिहार में युवकों को रोजगार मिल सकेगा।

क्या तेजस्वी को सीएम बनाने पर सहमत हो गए नीतीश?