लालू भी उतरे हेमंत के पक्ष में, नहीं डरेंगे दलित, पिछड़े, आदिवासी

लालू भी उतरे हेमंत के पक्ष में, नहीं डरेंगे दलित, पिछड़े, आदिवासी

लालू भी उतरे हेमंत के पक्ष में, नहीं डरेंगे दलित, पिछड़े, आदिवासी। सोरेन की गिरफ्तारी के खिलाफ संगठित हुआ विपक्ष। सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मामला।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को इस्तीफा देने पर मजबूर करने का मामला राष्ट्रव्यापी बन गया है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने भाजपा पर तीखा हमला करते हुए कहा कि उसके घिनौने हथकंड से दलित-आदिवासियों-पिछड़ों का संकल्प कमजोर नहीं पड़ेगा। उन्होंने सोरेन को गिरफ्तार करने का विरोध करते हुए कहा झारखंड की लोकप्रिय सरकार के जनप्रिय आदिवासी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को केंद्र की तानाशाह सरकार प्रताड़ित कर रही है। भाजपा के यह घिनौने हथकंडे अल्प समय के लिए परेशान तो कर सकते हैं पर पिछड़े, दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यक और हाशियों पर रहने वाले समूहों के संकल्प और महत्वाकांक्षाओं को पराजित नहीं कर सकते। भाजपा का डर जग-ज़ाहिर है और जनता भी यह बात अब समझ चुकी है। हम मजबूती से हेमंत के साथ हैं।

इस बीच हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। सोरेन के वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट में सोरेन की गिरफ्तारी का मामला उठाया। कोर्ट ने कहा कि हाईकोर्ट में सुनवाई होगी, तब सिब्बल ने कहा कि हाईकोर्ट से हम अपील वापस लेते हैं। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कल यानी शुक्रवार को सुनवाई करने के लिए अपील को स्वीकार कर लिया।

हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी के विरोध में देशभर के विपक्षी दल एकजुट हो गए हैं। कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दलों ने इसे लोकतंत्र पर हमला, संघीय ढांचे पर हमला करार दिया है। तेजस्वी यादव ने सोरेन की गिरफ्तारी का विरोध करते हुए कहा बिहार, चंडीगढ़ और अब झारखण्ड! भाजपा ने एक ही हफ्ते में लोकतंत्र और संघवाद को तार-तार कर दिया है। चुनावी हार के डर से जाँच एजेंसियों की निष्पक्षता खत्म कर,एजेंसियों को बीजेपी का प्रकोष्ठ बनाकर, केंद्र सरकार क्या-क्या कर रही है अब यह बात किसी से छुपी नहीं है। अहंकार से चूर भाजपा की हेकड़ी अब जनता तोड़ेगी। राजद @HemantSorenJMM जी के साथ खड़ी है। ममता बनर्जी ने भी सोरेन की गिरफ्तारी का विरोध करते हुए कहा भाजपा सिर्फ चुनाव जीतने के लिए सारे विपक्ष को जेल में डालना चाहती है।

नीतीश को हाथों हाथ आमंत्रण, झारखंड में चंपई को 20 घंटे बाद भी बुलावा नहीं