‘मोदी को मार्गदर्शक मंडल में जगह नहीं, ‘अजायब घर’ की वस्तु बने’

‘मोदी को मार्गदर्शक मंडल में जगह नहीं, ‘अजायब घर’ की वस्तु बने’

राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि भाजपा सांसद सुशील मोदी भाजपा के मार्गदर्शक मंडल में भी जगह पाने के लायक नहीं रहे। अजायब घर की वस्तु बने।

राजद प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने सुशील कुमार मोदी जी द्वारा दिये जा रहे अजीबोगरीब बयानों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि वे अब ” अजायब घर ” की शोभा बढ़ाने वाले वस्तु बन गये हैं। उन्हीं का अनुकरण करते हुए उनके प्रतिस्पर्धा में पार्टी नेतृत्व के सामने अपना टीआरपी बढ़ाने के लिए भाजपा के अन्य नेता भी एक पर एक अजूबा बयान देने लगे हैं।

राजद प्रवक्ता ने कहा कि कुछ भी बोलने के पहले भाजपा नेता यह भूल जाते हैं कि केन्द्र में पिछले 8 वर्षों से उनकी सरकार है और प्रति वर्ष लाखों लाख नियुक्ति करने वाली डीफेंस, रेलवे, गृह, पोस्टल, रेवेन्यू , बैंकिंग जैसे अनेकों विभाग उनके नियंत्रणाधीन है फिर भी केन्द्र सरकार द्वारा संसद में दिये गये बयान के अनुसार हीं पिछले वित्तीय वर्ष 2021 – 2022 में राष्ट्रीय स्तर पर मात्र 38,850 युवाओं को नौकरी दी गई। लगभग यही स्थिति पूर्व के वित्तीय वर्षों में रहा है। संसद में दिये गये बयान के अनुसार हीं केन्द्र की भाजपा के 8 वर्षों के शासन काल में 40 लाख 35 हजार के विरुद्ध मात्र 7 लाख 22 हजार लोगों को नौकरी दी गई। जबकि 22 करोड़ 5 लाख युवाओं ने नौकरी के लिए आवेदन दिया था।

राजद प्रवक्ता ने भाजपा से जानना चाहा है कि वे किस नैतिकता से बिहार के महागठबंधन सरकार से नौकरी पर सवाल कर रहे हैं। महागठबंधन सरकार द्वारा दिए गए नौकरी के सम्बन्ध में भाजपा नेताओं के कथन कि ‘एनडीए सरकार के समय हीं प्रक्रिया पूरी कर ली गई थी ‘ को हास्यास्पद बताते हुए राजद प्रवक्ता ने कहा कि तो बहाली क्यों नहीं की गई। क्या भाजपा केवल प्रक्रियाओं में हीं युवकों को उलझाए रखना जानती है और बहाली के नाम पर केवल जुमलेबाजी करने में विश्वास रखती है। राजद प्रवक्ता ने आज फिर दुहराया है कि कल के रोजगार मेले में बिहार के कितने लोगों को नियुक्ति पत्र दिया गया, इसका जिलावार आंकड़ा सार्वजनिक किया जाए।

‘संस्कारी’ के बाद ‘दयालु’ रेपिस्ट : हाईकोर्ट ने रेपिस्ट की सजा कम की