मंत्रिमंडल विस्तार से रोका, तो नीतीश ने खीज में एक-एक मंत्री को दिए 9-9 विभाग

मंत्रिमंडल विस्तार से रोका, तो नीतीश ने खीज में एक-एक मंत्री को दिए 9-9 विभाग

मंत्रिमंडल विस्तार से रोका, तो नीतीश ने खीज में एक-एक मंत्री को दिए 9-9 विभाग। भाजपा के दबाव से तिलमिलाए। सरकार बनते ही एनडीए में तनातनी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के शपथ के छठे दिन ही एनडीए में तनातनी हो गई है। भाजपा मुख्यमंत्री पर जबाव बना रही थी कि उसे गृ विभाग या सामान्य प्रशासन विभाग में से एक मिलना चाहिए। मुख्यमंत्री चाहते थे कि पहले मंत्रिमंडल का विस्तार हो जाए, फिर विभागों का बंटवारा होगा। लेकिन गृह विभाग या सामान्य प्रशासन विभाग में से एक लेने पर अड़ी भाजपा मंत्रिमंडल विस्तार का विरोध कर रही थी। इससे नाराज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खीज में एक-एक मंत्री को नौ-नौ विभाग बांट दिए। बिहार में ऐसा पहली बार हुआ है कि एक -एक मंत्री को नौ-नौ विभाग दे दिए गए हैं।

नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल विस्तार से रोके जाने पर अपने विशेषाधिकार का प्रयोग करते हुए उप मुख्यमंत्री विजय सिन्हा को नौ विभाग, उप मुख्यमंत्री सम्राट चौधरी को आठ विभाग दे दिए। जदयू कोटे के मंत्री विजय सिन्हा को पांच विभाग दे दिए गए हैं, तो जदयू के ही विजेंद्र यादव को चार विभाग दिए गए हैं। भाजपा कोटे के मंत्री डॉ प्रेम कुमार को पांच विभाग दिए गए हैं। जदयू के श्रवण कुमार को दो विभाग दिए गए हैं, जबकि हम के संतोष सुमन को बी दो विभाग दिए गए हैं। निर्दलीय सुमित कुमार को एक विभाग दिया गया है।

अब जब मंत्रिमंडल का विस्तार होगा, तो फिर एक बार संघर्ष दिखेगा। सम्राट चौधरी या विजय सिन्हा कौन सा विभाग अपने पास रखना चाहेंगे और कौन सा छोड़ेंगे, यह नया विवाद होगा। फिलहाल मुख्यमंत्री ने अपने पास सिर्फ तीन विभाग रखे हैं। गृह, सामान्य प्रशासन तथा निर्वाचन।

स्पष्ट है कि मुख्यमंत्री ने भाजपा के दबाव से तंग आकर ऐसा निर्णय लिया है। पहले ऐसा कभी नहीं हुआ कि एक मंत्री को नौ विभाग दिए गए होंष विजय सिन्हा को जो नौ विभाग दिए गए हैं वे हैं-कृषि विभाग पथ निर्माण विभाग राजस्व भूमि सुधार विभाग गन्ना उद्योग विभाग खान एवं भूतव विभाग श्रम संसाधन विभाग कला संस्कृति एवं युवा विभाग लघु जल संसाधन विभाग लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग।

सम्राट चौधरी को जो आठ विभाग दिए गए हैं वे हैं-वित विभाग वाणिज्य कर विभाग नगर विकास एवं आवास विभाग स्वास्थ विभाग खेल विभाग पंचायती राज उद्योग विभाग पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग विधि विभाग।

इसी तरह विजय चौधरी को जल संसाधन विभाग संसदीय कार्य विभाग भवन निर्माण विभाग परिवहन विभाग शिक्षा और सूचना एवं जनसंपर्क विभाग दिए गए हैं। विजेंद्र यादव को ऊर्जा विभाग योजना एवं विकास विभाग मद्य निषेध उत्पाद एवं निबंधन विभाग ग्रामीण कार्य अल्पसंख्यक कल्याण विभाग तथा श्रवण कुमार को ग्रामीण विकास समाज कल्याण खाद एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग दिए गए हैं।

भाजपा कोटे के डॉ. प्रेम कुमार को सहकारिता विभाग पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग आपदा प्रबंधन विभाग पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग पर्यटन विभाग दिए गए हैं, जबकि हम के संतोष सुमन को सूचना प्रौद्योगिकी विभाग अनुसूची जाति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग दिए गए हैं। सुमित कुमार को विज्ञान तथा आईटी विभाग दिया गया है।

हेमंत सोरेन को कोर्ट से राहत, विश्वास मत में भाग लेंगे