महिला ग्रुप में अश्लील तस्वीर डालने वाले पुलिसकर्मी पर FIR

महिलाओं के व्हाट्सऐप ग्रुप पर अश्लील तस्वीर डालने वाले आशिक मिजाज पुलिसकर्मी पर एफआईआर दर्ज

दीपक कुमार
बिहार ब्यूरोचीफ

दरभंगा:महिला साइबर सेनानी वॉट्सएप ग्रुप में अश्लील फोटो डालने के बाद एडमिन सहित अन्य लोग इसको हटाने का अनुरोध करते रहे, लेकिन इसके बावजूद आरोपी ने वो फोटो नहीं हटाया. हलदर मंडल के खिलाफ महिला थाना में मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गई है. ग्रुप में भेजी गई अश्लील फोटो चर्चा का विषय बना हुआ है. साथ ही पुलिसकर्मियों की मानसिकता को लेकर भी सवाल खड़े कर रहा है.


आखिर,वर्दी की शपथ को यह खाकी वाले दागदार करने में ही अपनी शान क्यों समझते हैं?

जानिए क्या है मामला

दरभंगा में एक पुलिसकर्मी को उसकी आशिक मिजाजी भारी पड़ गई. आरोपी पुलिसकर्मी के द्वारा महिला साइबर सेनानी ग्रुप में आपत्तिजनक (अश्लील) तस्वीर डालने से बवाल खड़ा हो गया है. इसकी शिकायत पर महिला थाना अध्यक्ष नुसरत जहां के आवेदन पर पुलिस लाइन में पदस्थापित (तैनात) पुलिसकर्मी हलधर मंडल के खिलाफ महिला थाना में मामला दर्ज किया गया है.

मुख्यालय डीएसपी अमित कुमार के अनुसार सोमवार की सुबह पुलिस लाइन में पदस्थापित पुलिसकर्मी हलदर मंडल के द्वारा इस ग्रुप में अश्लील फोटो डाला गया. जिस मोबाइल नंबर से यह तस्वीर ग्रुप में डाली गई थी उसकी जांच की गई तो पता चला कि वो एक पुलिसकर्मी है, लेकिन सही जानकारी नहीं मिलने के कारण आईटी सेल को यह नंबर उपलब्ध कराया गया है ताकि दोषी की पहचान कर उसपर विभागीय कार्रवाई की जा सके.

वॉट्सएप ग्रुप में अश्लील फोटो डालने के बाद एडमिन सहित अन्य लोग इसको हटाने का अनुरोध करते रहे, लेकिन इसके बावजूद आरोपी ने वो फोटो नहीं हटाया. हलदर मंडल के खिलाफ महिला थाना में मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गयी है.

बता दें कि पुलिस मुख्यालय के निर्देशों पर वॉट्सएप पर साइबर सेनानी ग्रुप बनाया गया है. इसमें जिले के गणमान्य व्यक्ति सहित कई पुलिसकर्मी जुड़े हुए हैं. बिहार के पूर्व पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने त्वरित अपराध नियंत्रण के लिए वॉट्सएप साइबर सेनानी ग्रुप के निर्देश पर बनाया था. इसकी ग्रुप एडमिन महिला थाना अध्यक्ष है.

यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की घटना हुई है, इससे पूर्व भी महिला साइबर सेनानी ग्रुप में अश्लील फोटो डालने का मामला सामने आया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*