आदिवासियों ने UCC के खिलाफ खोल दिया मोर्चा, 7 को भारत बंद

आदिवासियों ने UCC के खिलाफ खोल दिया मोर्चा, 7 को भारत बंद। सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा #IndiaOpposeUCC । राजस्थान से झारखंड तक कई प्रदेशों में प्रदर्शन।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा द्वारा समान नागरिक संहिता लाए जाने की घोषणा के बाद कई राज्यों में आदिवासी समाज सड़कों पर उतर आया है। आदिवासी एकता परिषद ने चरणबद्ध आंदोलन करते हुए सात अगस्त को भारत बंद का आह्वान किया है। ट्विटर समेत अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर #IndiaOpposeUCC ट्रेंड कर रहा है।

भारत मुक्ति मोर्चा, बहुजन क्रांति मोर्चा तथा अन्य संगठनों ने मिल कर आदिवासी एकता परिषद का गठन किया है। परिषद ने 18 जुलाई से प्रतिवाद शुरू करने की घोषणा की है। 27 जूलाई को हर जिले में धरना-प्रदर्शन किया जाएगा। फिर सात अगस्त, 2023 को भारत बंद करने की घोषणा की गई है। आदिवासी एकता परिषद के आह्वान को लगातार सोशल मीडिया में विभिन्न संगठन तथा व्यक्ति अपना समर्थन दे रहे हैं। इस बीच पिछले तीन-चार दिनों में देश के कई हिस्सों में आदिवासी समाज ने समान नागरिक संहिता के खिलाफ सड़क पर उतर कर विरोध जताया है।

जमशेदपुर, रांची सहित झाऱखंड के कई शहरों में समान नागरिक संहिता के खिलाफ लगातार प्रदर्शन, बैठक, सम्मेलन हो रहे हैं। आदिवासी समाज का कहना है कि हमारे यहां शादी हिंदू मैरिज एक्ट के अनुसार नहीं होती। किसी दंपती के अलग होने का नियम भी भिन्न है। हमारे यहां संपत्ति के अधिकार भी भिन्न हैं। हमें समान नागरिक संहिता मंजूर नहीं है। उन्होंने कहा है कि अगर आदिवासियों पर समान नागरिक संहिता थोपने की कोशिश की गई, तो वे इसे कभी स्वीकार नहीं करेंगे। इसका तीखा विरोध होगा।

#IndiaOpposeUCC के साथ लगातार लोग भाजपा और संघ परिवार के एजेंडे का विरोध कर रहे हैं। वामन मेश्राम साहब के भारत बंद के समर्थन में लोग लगातार ट्वीट कर रहे हैं। आदिवासी एकता परिषद ने एक पोस्टर भी जारी किया है, जिसमें समान नागरिक संहिता के विरोध के 20 कारण बताए गए हैं।

बेंगलुरु बैठक : विपक्षी खेमे में 8 दल और जुड़े, नीतीश बनेंगे संयोजक!

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420