इंडिया गठबंधन के दलों से जुड़े छह छात्र संगठन 12 जुलाई से अनशन करेंगे। 2024 नीट यू.जी. परीक्षा रद्द कर और पुन: परीक्षा करने, नेशनल टेस्टिंग एजेन्सी (NTA) को खत्म करने, अग्निवीर योजना को बंद करने, बिहार आरक्षण को 9 वीं अनुसूचि में शामिल करने तथा केन्द्रीय शिक्षा मंत्री से इस्तीफे की मांग पर सभी छात्र संगठनों ने अनिश्चितकालीन अनशन करने की घोषणा की है।

छात्र संगठनों ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में घोषणा की। पटना के छज्जूबाग स्थित आइसा कार्यालय  में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए आइसा राज्य अध्यक्ष प्रीति कुमारी, सचिव सबीर कुमार, छात्र राजद के प्रदेश प्रवक्ता अमन लाल, SFI के राज्य अध्यक्ष कान्ति कुमारी, AISF के राज्य सह सचिव सुधीर कुमार, राकेश कुमार, एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष चुन्नू सिंह, समाजवादी छात्र सभा के प्रदेश अध्यक्ष सूरज यादव ने संयुक्त आंदोलन की घोषणा की।

छात्र नेताओं ने कहा कि 2024 नीट यू.जी.परीक्षा को रद्द कर पुन: परीक्षा लेने, NTA को खत्म करने, शिक्षा मंत्री इस्तीफा देने को लेकर 12 जुलाई से अनिश्चितकालीन अनशन गर्दनीबाग में किया जाएगा। 2024 नीट यू.जी. परीक्षा में भ्रष्टाचार ने लाखों छात्रों का भविष्य अंधकार में धकेल दिया है। डॉक्टर बनने का सपना महंगी फीस, सीटों में कमी और कोचिंग माफिया, बड़े-बड़े शिक्षा माफियों ने संवैधानिक प्रतियोगितात्मक परीक्षा को बाजारीकरण करके चूर-चूर कर दिया है। देखा जाए तो साल दर साल परीक्षा को पारदर्शी करने में नाकामयाब रहने के बावजूद NTA को निरस्त नही किया गया है। यह मेडिकल अभ्यर्थी के सपनों के साथ मज़ाक है। साफ जाहिर करता है कि शिक्षा और नौकरी अब महज एक वितृष्णात्मक सपना ही रह गया है। एक विविध देश जहां शिक्षा विविध है वहां केन्द्रीय परीक्षाएं असमान रूप से होड़ लगा देती है ऐसे में न्याय पसंद छात्रों के अरमानों की बली NTA ने चढ़ा दी है। शिक्षा और नौकरी पर सबका समान अधिकार हो इसपर केन्द्र सरकार असंवेदनशील है। विगत दस वर्षो में मोदी सरकार के प्रोपेगेंडा आधारित रणनीति जो सरकारी क्षेत्र को निजीकरण की ओर धकेलने की ओर चल रहा है और पूंजीपतियों के हाथों में उच्च शिक्षण संस्थान व प्रतियोगी परीक्षाओं को कंडक्ट करने का जिम्मा दिया जा रहा इन सभी में धांधली और भ्रष्टाचार के मामला चरम सीमा के पार हो चूका है NTA को औपचारिक रूप से स्थगित करना चाहिए जिससे राज्य या राष्ट्रीय स्तर की पात्रता परीक्षाएं आयोजित करने में पारदर्शी, कुशल और निष्पक्ष प्रकिया के तहत दिखे।

————-

प्रशांत किशोर 75 मुस्लिम प्रत्याशी उतारेंगे

————

नीट यू.जी. परीक्षा में भ्रष्टाचार के खिलाफ व्यापक रूप से मजबूत पहलकदमी लेंगे। आइसा, छात्र राजद, एआईएस एफ, एनयूएसआई, एसएफआई समाजवादी छात्र सभा के पदाधिकारीगण इस आन्दोलन को व्यापक रूप में मजबूत करेंगे। मौजूदा डबल इंजन की सरकार परिक्षाओं का केन्द्रीकरण शिक्षा के व्यापार को बाजार के लिए सुनियोजित करने का तरीका अपना रही है जहां प्रतियोगितात्मक परीक्षा में NTA की अनियमितता दिख रही है इसमें उच्च स्तरीय जांच हो नीट यूजी के अभ्यर्थी के साथ न्याय हो ताकि जिससे मेडिकल क्षेत्र में सबसे बड़ी प्रतिस्पर्धा वाली परीक्षा पर विश्वास बना रहे।

पूर्व IAS मनीष वर्मा जदयू के राष्ट्रीय महासचिव बनाए गए

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420