अब ED के शिकंजे में प्रियंका भी, पहली बार चार्जशीट में आया नाम

अब ED के शिकंजे में प्रियंका भी, पहली बार चार्जशीट में आया नाम

अब ED के शिकंजे में प्रियंका भी, पहली बार चार्जशीट में आया नाम। कांग्रेस नागपुर में संघ-भाजपा के खिलाफ रैली कर रही, इधर प्रियंका गांधी को घेरने की तैयारी।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। पहली बार ईडी ने अपनी चार्जशीट में उनका नाम दर्ज किया है। मामला हरियाणा में पांच एकड़ जमीन की खरीद और बिक्री से जुड़ा है। इस मामले में उनके पति रॉबर्ट वाड्रा का नाम पहले से आरोपी के रूप में दर्ज है। अब पहली बार प्रियंका गांधी का नाम भी चार्जशीट में आया है। इस खबर से राजनीतिक क्षेत्र में सनसनी फैल गई। माना जा रहा है कि तीन महीने बाद होनेवाले लोकसभा चुनाव से पहले कुछ और भी विपक्षी नेताओं पर शिकंजा कस सकता है। इससे कांग्रेस सहित कुछ क्षेत्रीय दलों की परेशानी बढ़ सकती है।

मीडिया से मिल रही खबरों के मुताबिक ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले बीते नवंबर को चार्जशीट दाखिल की थी। इस चार्जशीट के अनुसार ईडी का आरोप है कि रियल एस्टेट एजेंट एचएल पाहवा ने वाड्रा और थंपी दोनों को जमीन बेची। हरियाणा में जमीन सौदे के बदले पाहवा को दस्तावेजों से अलग नकद रकम मिली। चार्जशीट के अनुसार, वाड्रा ने सौदे की पूरी रकम का भुगतान भी नहीं किया। पाहवा ने साल 2006 में प्रियंका गांधी को भी कृषि जमीन बेची थी लेकिन साल 2010 में इसे वापस खरीद लिया था।

एनडीटीवी की खबर के मुताबिक एनआरआई बिजनेसमैन सीसी थंपी और ब्रिटिश नागरिक सुमित चढ्ढा के खिलाफ चार्जशीट दायर की गई थी। ED का मानना है कि प्रियंका गांधी के नाम पर फरीदाबाद में जमीन खरीदी गई थी। खबरों में बताया गया है कि रॉबर्ट वाड्रा ने लंदन में भी संपत्ति खरीदी थी और ईडी द्वारा उस सौदे की भी जांच की जा रही है। ईडी ने बताया कि इस मामले की जांच के दौरान उन्हें पता चला कि रॉबर्ट वाड्रा और सीसी थंपी के बीच लंबे और गहरे संबंध हैं।

लोकसभा चुनाव से सिर्फ तीन महीना पहले ईडी के केस में प्रियंका गांधी का नाम आने से स्पष्ट है कि उनके कभी भी पूछताछ हो सकती है, उनकी गिरफ्तारी की संभावना भी जताई जा रही है। अगर ऐसा हुआ तो विपक्ष की राजनीति को गहरा धक्का लगेगा और उसकी चुनावी तैयारी बेपटरी हो जाएगी।

असम के मुख्यमंत्री ने पिछड़ों का किया अपमान, हुआ भारी विरोध