गर्मी से सैकड़ों बच्चों के बेहोश होने तथा विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के विरोध के बाद आखिर नीतीश कुमार जागे। उन्होंने बुधवार शाम को राज्य के सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया। उन्होंने मुख्य सचिव ब्रजेश महरोत्रा को इस आशय का आदेश दिया है। मुख्यमंत्री ने 30 मई से 8 जून तक स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है।

इससे पहले बुधवार को भीषण गर्मी के कारण सैकड़ों छात्र बेहोश हो गए। तब दोपहर में विभाग ने सभी स्कूलों का टाइमिंग चेंज किया। आदेश में कहा गया कि स्कूल सुबह छह बजे से दस बजे तक खुलेंगे। इस आदेश के थोड़ी देर बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हस्तक्षेप किया और स्कूलों को 8 जून तक पूरी तरह बंद करने का आदेश दिया।

इस वर्ष गर्मी अपना रिकॉर्ड तोड़ रही है। कई जिलों में तापमान 47 डिग्री दर्ज किया गया। लोगों का घर से निकलना मुश्किल है। डॉक्टर भी जरूरी काम नहीं होने पर घेर से निकलने पर मना कर रहे हैं। इस स्थिति में छोटे बच्चों के स्कूल खोलने का क्या औचित्य है किसी को समझ में नहीं आ रहा था। मुख्यमंत्री के प्रिय अधिकारी केके पाठक निशाने पर थे, पर सरकार चुप बनी हुई थी। अब आज सैकड़ों छात्रों के बीमार पड़ने के बाद सरकार जागी।

——————–

प्रधानमंत्री ने गांधी के बारे में ऐसा कहा कि हुई फजीहत

——————

विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने सैकड़ों छात्रों के बीमार पड़ने पर कहा कि बिहार में सरकार नाम की कोई चीज नहीं रह गई है। अधिकारी ही सरकार चला रहे हैं। अधिकारी बेलगाम हो गए हैं। इस गंभीर आलोचना के बाद नीतीश कुमार ने अपने प्रिय अधिकारी केके पाठक के आदेश को निरस्त करते हुए स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है। इस आदेश के बाद अभिभावकों ने राहत की सांस ली है। शिक्षक-कर्मियों को भी गर्मी से भारी परेशानी थी। अब वे भी इस भयानक गर्मी में स्कूल जाने से बच सकेंगे।

शरजील इमाम को मिली जमानत, उमर खालिद को कब मिलेगी राहत

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420